चेलों ने बढ़ाई अपने राजनीतिक गुरुओं की परेशानी 

img

  • कई भाजपा पार्षद ठोकने लगे विधायक पद की दावेदारी
  • सांगानेर सीट पर है सबसे ज्यादा संग्राम

 

जयपुर

प्रदेश में चुनावी रणभेरी बज चुकी है और हर एक नेता टिकट की दौड़ में जुटे हैं। हर कार्यकर्ता चाहता है कि आने वाले विधानसभा चुनाव में पार्टी उसे टिकट देकर विधानसभा तक पहुंचाएं । टिकट चाहने वाले कई भाजपा पार्षदों ने अपने सियासी गुरु यानी स्थानीय विधायक और मंत्री की भी परेशानियां बढ़ा रखी है।राजनीति में विधायकों के चेले माने जाने वाले यह भाजपा पार्षद विधानसभा चुनाव में अपनी ताल ठोकने को तैयार है। कुछ पार्षद खुलेआम टिकट की दावेदारी कर रहे हैं और प्रदेश मुख्यालय में आला नेताओं को अपने बायोडाटा भी देकर आ रहे हैं । वहीं कुछ पार्षद ऐसे हैं जो खुलकर नहीं लेकिन गुपचुप में पार्टी के शीर्ष नेताओं से संपर्क कर अपने टिकट का जुगाड़ करने में जुटे हैं। जयपुर नगर निगम में महापौर अशोक लाहोटी और उपमहापौर मनोज भारद्वाज से लेकर अधिकतर समिति चेयरमैन और पार्षद इस बार विधानसभा का चुनाव लड़ने को आतुर है। इन पार्षदों ने अपने अपने विधानसभा क्षेत्र भी चुन लिए हैं और शहरी सरकार में रहते हुए वहां से विधानसभा चुनाव की तैयारियां भी शुरू कर दी है। शहरी सरकार के पार्षदों की इसी दावेदारी ने भाजपा के कई विधायक, मंत्री और पदाधिकारियों की नींद उड़ा रखी है। नींद उड़ना लाजमी भी है क्योंकि जिन विधायकों ने बतौर गुरु बनकर अपने इन चेलों को पार्षद का टिकट दिलाकर शहरी सरकार में भेजा लेकिन अब वही भाजपा पार्षद प्रदेश सरकार में जाने का रास्ता बनाने के लिए खुलकर दावेदारी कर रहे हैं। 

 

सांसद,शहर अध्यक्ष,आयोग अध्यक्ष के लिए परेशानी बने ये पार्षद-

शहरी सरकार यानी जयपुर नगर निगम के ऐसे कई भाजपा पार्षद है जिन्होंने अपनी ही पार्टी के विधायक मंत्री और सांसद की नींद उड़ा रखी है इनमें सबसे पहला नाम शहरी सरकार के मुखिया यानी महापौर डॉक्टर अशोक लाहोटी का है लाहोटी सांगानेर विधानसभा में आने वाले वार्ड 46 से पार्षद भी है। अब लाहोटी चाहते हैं कि आने वाले विधानसभा चुनाव में सांगानेर विधानसभा क्षेत्र से वह राज्य विधानसभा में जाने का रास्ता बनाएं हालांकि वो इसका खुलकर इजहार नही करते लेकिन विधायकी का चुनाव लड़ने की इच्छा हर कार्यकर्ता के मन में होने की बात भी करते है। लाहोटी के अनुसार उन्हें पार्टी के आदेश का इंतजार हैं। यहाँ आपको यह भी बता दे कि महापौर पद हासिल करने के बाद ही लाहोटी ने विधायक के टिकट के लिए तैयारी शुरू भी कर दी थी और अब भी लगातार इसी जुगत में है कि उन्हें सांगानेर से कमल का सिंबल देकर चुनाव मैदान में उतार दें। लाहोटी वैश्य समाज से हैं और शहरी सरकार में सांगानेर से आने वाले ब्राह्मण समाज के पार्षद विष्णु लौटा उन्हें चुनौती भी देते हैं। विष्णु लाटा वार्ड 42 के ही भाजपा पार्षद है और वह भी सांगानेर से टिकट की दावेदारी कर रहे हैं। लाटा ने इसके लिए संगठन महामंत्री चंद्रशेखर पार्टी प्रदेश अध्यक्ष मदनलाल सैनी सहित मुख्यमंत्री और अन्य पदाधिकारियों को अपनी मंशा भी जता दी है। लाटा के अनुसार भाजपा में एक व्यक्ति एक पद का सिद्धांत है और लाहोटी को पहले ही महापौर का पद मिल चुका है और जातिगत समीकरणों के आधार पर सांगानेर में सर्वाधिक मतदाता ब्राह्मण है। लिहाजा पार्टी उन्हें यदि टिकट दे तो वह सांगानेर में कमल का फूल खिला देंगे। सांगानेर से ही भाजपा पार्षद मुकेश लख्यानी भी टिकट की दावेदारी में पूरी शिद्दत से जुटे हैं और वह सांगानेर में सिंधी समाज के वोटर अधिक होने का दावा भी करते हैं। हालांकि शहर सांसद रामचरण बोहरा, सांसद बनने से पहले सांगानेर विधानसभा क्षेत्र से ही टिकट की चाहत रखते थे और अब जब घनश्याम तिवाड़ी भाजपा से अलग हो चुके हैं तो बोहरा के मन में भी एक बार फिर सांगानेर विधानसभा क्षेत्र से विधायकी का टिकट लेकर लड़ने की चाहत पनप रही है। तो वहीं जयपुर शहर भाजपा अध्यक्ष संजय जैन भी सांगानेर सीट से ही दावा ठोक रहे है,तो वहीं महिला आयोग अध्यक्ष सुमन शर्मा की निगाहें भी इसी सीट पर टिकी हैं। लेकिन शहरी सरकार के मौजूदा मुखिया और भाजपा पार्षदों की  दावेदारी ने सांसद,शहर अध्यक्ष और महिला आयोग अध्यक्ष की नींद उड़ा रखी है।

 

इन पार्षदों ने उड़ाई अपने विधायक की नींद-

शहरी सरकार में सेकंड नंबर की मुखिया यानी उपमहापौर मनोज भारद्वाज भी हवा महल विधानसभा क्षेत्र से दावेदारी करते दिख रहे हैं।भारद्वाज हवा महल विधानसभा क्षेत्र में आने वाले वार्ड 74 के भाजपा पार्षद भी हैं। इसी तरह भाजपा पार्षद सुरेंद्र रोबिन भी अपनी दावेदारी हवा महल विधानसभा क्षेत्र से ही जताते हैं। इन दोनों की दावेदारी ने हवा में विधानसभा क्षेत्र के मौजूदा भाजपा विधायक सुरेंद्र पारीक की नींद उड़ा रखी है। इसी तरह बात करें विद्याधर नगर विधानसभा क्षेत्र की तो यहां से भाजपा पार्षद भवानी सिंह राजावत, भगवत सिंह देवल और प्रकाश गुप्ता अपनी दावेदारी जता रहे हैं।यह तीनों ही पार्षद मौजूदा विधायक के सामने लोहा लेने को तैयार है। जिससे यहां के स्थानीय भाजपा विधायक नरपत सिंह राजवी परेशान है। इसी तरह बगरू से आने वाले भाजपा विधायक और सरकार में संसदीय सचिव कैलाश वर्मा की परेशानी भाजपा पार्षद नवरत्न नराणिया ने बढ़ा रखी है। नवरत्न नाराणिया बगरू से विधानसभा का टिकट की दावेदारी कर रहे हैं। वहीं मालवीय नगर विधानसभा क्षेत्र की बात करें तो वार्ड 53 के भाजपा पार्षद अशोक गर्ग भी स्थानीय विधायक कालीचरण सराफ से लोहा लेते नजर आ रहे हैं। गर्ग इन विधानसभा चुनाव में टिकट का दावा ठोक रहे हैं। हालांकि सराफ  ने इसी बगावत के चलते अपनी टीम से गर्ग को पहले ही बाहर कर दिया। वहीं सराफ, गर्ग को खुद के लिए कोई चुनोती नहीं मानते। हालांकि यह बात अलग है कि इन पार्षदों को राज्य विधानसभा तक पहुंचने का रास्ता पार्टी नेतृत्व की ओर से प्रशस्त किया जाता है या नहीं लेकिन अपनी दावेदारी के कारण उन्होंने अपने ही राजनीतिक गुरुओं की परेशानी जरूर बढ़ा दी है।

tyfu6tu whatsapp mail

Searching Keywords: