इसे सरकार ने कर दिया था मृत घोषित, 19 महीने बाद आई सच्चाई सामने  

img

साल 2013 में केदारनाथ में आई त्रासदी से पूरी दुनिया हील गई थी। कुदरत के इस कहर ने बहुत कुछ तबाह कर दिया था। कई परिवार आज भी उस हादसे का नाम सुनकर रो पड़ते हैं। हादसे के शिकार हुए लोगों के जख्म हरे हो जाते हैं। हजारों लोगों के घर तबाह हो गए थे तो सैकड़ों परिवार बिछड़ गए थे। इस प्रलय ने ट्रैवल एजेंसी में काम करने वाले विजेंद्र सिंह की जिंदगी भी बदल के रख दी। 2013 में ट्रैवल एजेंट विजेंद्र सिंह अपनी पत्नी के साथ चार धाम यात्रा पर निकले थे। इन दोनों के साथ 30 अन्य दंपत्ति भी उस बस में सवार थे जो उत्तराखंड में दर्शन के लिए पहुंची थी। सबको उम्मीद थी कि भगवान के दर्शन होंगे, लेकिन जो हुआ उसकी किसी को उम्मीद नहीं थी। 16 जून को जब प्रलय ने दस्तक दी तो विजेंद्र अपनी पत्नी के साथ थे। भयानक बाढ़ की वजह से लीला और विजेंद्र भी अलग हो गए थे। दोनों के पास एक दूसरे से संपर्क साधने का कोई जरिया नहीं था। विजेंद्र तो किसी तरह अपने घर पहुंच गए लेकिन लीला लापता हो गईं। विजेंद्र ने अपनी पत्नी को ढूंढने की कोशिश शुरू की। कई महीनों तक तलाश करने के बाद सबने स्वीकार कर लिया कि लीला परलोक सिधार चुकी हैं। लेकिन विजेंद्र इस बात को मानने के लिए तैयार नहीं थे कि उनकी पत्नी ने दुनिया को छोड़ दिया है। वह अपनी कोशिश में जुटे रहे। कई दिन तक लीला के लापता रहने पर सरकार ने भी उन्हें मृत घोषित कर दिया, लेकिन विजेंद्र अपनी जिद पर डटे रहे। विजेंद्र हर रोज अपनी पत्नी की तस्वीर लेकर उत्तराखंड में घूमते थे और लोगों से पूछते थे कि क्या आपने मेरी पत्नी को देखा है। लोगों ने उनको पागल कहना शुरू कर दिया था। एक दिन विजेंद्र की यह कोशिश रंग लाई। घटना के 19 महीने बाद, 27 जनवरी 2015 को उन्हें किसी ने बताया कि हमारे गांव में एक महिला जोकि मानसिक रूप से अस्थिर मालूम पड़ती है। उसकी शकल लीला से काफी मिलती है। विजेंद्र बदहवासी में अपनी लीला को तलाशने के लिए पहुंचे और उन्हें देखते ही उनकी आंखों से आंसुओं की धारा बह निकली। लेकिन लीला ने विजेंद्र को नहीं पहचाना। इस हादसे से लीला को इतना गहरा आघात पहुंचा कि वह सब कुछ भूल चुकी हैं। फिलहाल विजेंद्र खुश हैं कि उनकी पत्नी उन्हें मिल गई। फिर वह चाहे किसी भी हालत में क्यों न मिली। लीला विजेंद्र की अद्भुत प्रेम कहानी इन दिनों सोशल मीडिया पर चर्चा का विषय बन चुकी है। इन दोनों की प्रेम कहानी की तुलना फिल्म केदारनाथ की प्रेम कहानी से की जा रही है।     

whatsapp mail