अधिग्रहण की योजना नहीं, आतंरिक मजबूती पर ध्यान : मेहता

img

नई दिल्ली
पंजाब नेशनल बैंक के प्रबंध निदेशक सुनील मेहता ने कहा कि बैंक फिलहाल आंतरिक एकीकरण और वित्तीय रूप से मजबूत बनाने पर ध्यान दे रहा है। उन्होंने अधिग्रहण के जरिये विस्तार की संभावना से इनकार किया। मेहता ने कहा कि 14,000 करोड़ रुपये का नीरव मोदी प्रकरण अब ओझल हो रहा है और बैंक वृद्धि तथा फंसे कर्ज की वसूली पर गौर कर रहा है। बैंक की कर्ज वृद्धि उद्योग के औसत से अधिक है और पुनरूद्धार की गति की सराहना करते हुए सरकार ने 5,431 करोड़ रुपये का पूंजी समर्थन उपलब्ध कराने का निर्णय किया है। उन्होंने कहा, आप पूर्ण रूप से अवगत हैं कि वित्तीय सेवा सचिव ने कहा है कि सरकार वृद्धि के लिये 5,431 करोड़ रुपये की पूंजी दे रही है। पीएनबी दूसरा सबसे बड़ा बैंक है और हम वृद्धि के लिये पूरी तरह तैयार हैं। यह पूछे जाने पर कि क्या पीएनबी सार्वजनिक क्षेत्र के दूसरे बैंकों का अधिग्रहण करने जा रहा है, मेहता ने कहा, हमारी तरफ से अभी ऐसा कुछ भी नहीं है। इस सवाल पर कि अगर बैंक के लिये अधिग्रहण के प्रस्ताव आते हैं, उन्होंने कहा, यह विभिन्न परिस्थितियों पर निर्भर करेगा। फिलहाल हम आतंरिक मजबूती पर गौर कर रहे हैं और हमारी अधिग्रहण के जरिये विस्तार की कोई आकांक्षा नहीं है।

whatsapp mail