यस फाउंडेशन एक्सेलेरेटर ने लॉन्च किया कोहॉर्ट 1, 23 सोशल एंटरप्राइजेज किए गए सूचीबद्ध

img

मुंबई
यस बैंक की सामाजिक विकास शाखा यस फाउंडेशन ने 'यस! आई एम द चेंज (वायआईसीए) ग्रांट एंड एक्सेलेरेटर प्रोग्राम' के लिए 23 सोशल एंटरप्राइजेज और गैर सरकारी संगठनों को चुना है। मुंबई में आयोजित 'यस! आई एम द चेंज' पुरस्कार समारोह में चयनित संगठनों को 3-वर्षीय एक्सेलेरेटर सपोर्ट के साथ 7.5 करोड़ रुपए का अनुदान दिया गया। एक्सेलेरेटर स्केलेबल सॉल्यूशन मॉडल के साथ सतत विकास लक्ष्यों (एसडीजी) पर काम कर रहे सामाजिक प्रभाव संगठनों का समर्थन करेगा, जिससे उन्हें उच्च दक्षता और पैमाने को हासिल करने में मदद मिलेगी, जिससे प्रभाव को अधिकतम किया जा सकेगा। इस दिशा में 'यस! आई एम द चेंज (वायआईसीए) ग्रांट एंड एक्सेलेरेटर प्रोग्राम' अनेक संगठनों के साथ काम करेगा। जिनमें प्रमुख हैं- आवर बैटर वल्र्ड (सिंगापुर), थॉमसन रायटर्स फाउंडेशन, एशियन वेंचर फिलांथ्रोफी नेटवर्क (एवीपीएन), स्टार्ट-अप ओएसिस, उपाया सोशल वेंचर्स, डीएचएफएल और नास्कॉम फाउंडेशन। 27 संगठनों को जूरी सदस्यों की तरफ से गोल्डन टिकट भी दिए गए थे जो उन्हें यस फाउंडेशन के सपोर्ट के साथ-साथ वित्त पोषण, सलाह और समर्थन भी प्रदान करते हैं। इन उद्यमों को एक 3-चरणों वाली एक कडी चयन प्रक्रिया के माध्यम से सूचीबद्ध किया गया था। चुनौती को 11,500 से अधिक सबमिशन के रूप में शानदार प्रतिक्रियाएं मिली, जिसमें से 714 संगठनों का अनुदान और एक्सेलेरेटर प्रोग्राम के लिए परियोजना प्रस्ताव प्रस्तुत करने के लिए चयन किया गया था। मूल्यांकन प्रस्ताव के बाद शीर्ष 60 संगठनों को अंतिम दौर के चयन के लिए नामांकित किया गया था। अवार्ड समारोह में 20 युवा फिल्मकारों को भी सम्मानित किया गया। इन्हें 6 सदस्यों की एक राष्ट्रीय फिल्म जूरी ने चुना था, जिसमें अन्य सदस्यों के साथ भारतीय फिल्म अभिनेत्री शबाना आजमी, यूरोपियन डॉक्यूमेंट्री नेटवर्क के निर्देशक पॉल पॉवेल्स और इंटरनेशनल डॉक्यूमेंट्री फिल्म फेस्टिवल के फाउंडर एली डक्र्स भी शामिल थे। विजेता 20 युवा फिल्मकारों को 10 लाख रुपए तक के नकद पुरस्कार से सम्मानित किया गया। 

whatsapp mail