फुलर्टन इंडिया ने भारत के सबसे बड़े मवेशी देखभाल कार्यक्रम- पशु विकास दिवस के तीसरे संस्किरण का आयोजन किया

img

जयपुर
फुलर्टन इंडिया क्रेडिट कंपनी लिमिटेड (फुलर्टन इंडिया), संपूर्ण भारत में सुदृढ़ स्थिति रखने वाली एक अग्रणी गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनी, ने अपनी सीएसआर पहल “उदय” के अंतर्गत भारत के सबसे बड़े  मवेशी देखभाल कार्यक्रम – पशु विकास दिवस के तीसरे संस्कमरण का आयोजन किया। इस पहल के एक हिस्से के रूप में, देश भर के 13 राज्यों में 247 जगहों पर करीब 40000 मवेशियों की मुफ्त जांच की गई और उन्हें चिकित्साू सहायता दी गई। जिससे करीब 15200 ग्रामीण घरों को लाभ पहुंचा। फुलर्टन इंडिया विशेष रूप से गांवों में पशुओं के मालिकों को मवेशियों की देखभाल पर शिक्षित करने और उन्हें उनके मवेशियों के लिए मुफ्त चिकित्सा सुविधा और दवाइयां मुहैया कराने के लिए पशु विकास दिवस का आयोजन करता है। किसी एक दिन पर सबसे ज्यादा मवेशियों को चिकित्सा मुहैया कराने का नेशनल रेकॉर्ड बनाने के लिए पशु विकास दिवस को लिम्का बुक ऑफ वर्ल्ड रेकॉर्ड 2015 में दर्ज किया गया था। देश के विभिन्न भागों से इस साल फुलर्टन इंडिया के 3000 से ज्यादा कर्मचारियों ने कार्यक्रम में सक्रिय रूप से भाग लिया। राजस्थान में अकेले 4600 मवेशियों को चिकित्सा सुविधा मुहैया कराई गई, जिससे करीब 1900 ग्रामीण घरों को फायदा पहुंचा। फुलर्टन इंडिया की जनरल मैनेजर और हेड - मार्केटिंग और क्रॉस सेल सुश्री शिल्पा देसाई ने इस पहल पर कहा, “फुलर्टन इंडिया ने हमेशा अंतरात्मा की आवाज के आधार पर व्यापार करने वाले संगठन के रूप में खुद की रह पहचान की है और हमेशा से गरीब किसानों और ग्रामीण समुदाय की आमदनी बढ़ाने पर अपना ध्यान केंद्रित किया है। भारत में गांवों में ग्रामीण रोजी-रोटी कमाने के लिए मवेशियों पर निर्भर रहते हैं। हालांकि मवेशियों की देखभाल के संबंध में जागरूकता की कमी के कारण उनके पशुओं को बेहतरीन इलाज मुहैया नहीं हो पाता। फुलर्टन इंडिया में हमने इस चुनौती को पहचाना और मवेशियों का मुफ्त इलाज कराने और चिकित्साह सहायता देने के लिए पशु विकास दिवस का आयोजन आरंभ किया। इससे पहले के संस्क रणों में अपनी तरह की इस अनोखी पहल को लगातार बेहतरीन रेस्पांस मिला है। इस तरह कंपनी मवेशियों की देखभाल को प्रोत्साहित कर रही है और देश के गांवों में रहने वाले ग्रामीण की जिंदगी सुधार कर रही है। फुलर्टन इंडिया की सीएसआर इकाई उदय ने सामाजिक, आर्थिक और पर्यावरण से संबंधित तीन मुख्य पहलुओं के साथ प्रोग्राम्सड पर अपना ध्यान केंद्रित किया है। पशु विकास दिवस फुलर्टन इंडिया की आजीविका के साधनों में बढ़ोतरी करने की पहल का हिस्सा है, जिसमें महिलाओं को व्यवसायिक और युवाओं को कौशल विकास का प्रशिक्षण देनाभी शामिल है। फुलर्टन की कुछ अन्य सीएसआर पहलों में- सामाजिक मकसद से चलाया गया कार्यक्रम “एक मुट्ठी चावल”, है, जिसमें समाज के शोषित और वंचित तबकों को चावल और अनाज मुहैया कराया जाता है। स्वास्थ्य संबंधी पहल सेफपैड के तहत गांवों और दूर-दराज के क्षेत्रों में विशेष तौर पर महिलाओं में साफ-सफाई को बढ़ावा देने के लिए सैनिटरी पैड बांटे जाते हैं। फुलर्टन ने महिलाओं के लिए डिटिजल फाइनेंशियल सिक्युरिटी प्रोग्राम “सखी” चलाया है। आर्गेनिक फार्मिंग पर जागरूरकता बढ़ाने के लिए “कृषि मित्र” जैसी पहल के साथ कई अन्य कार्यक्रम शुरू किए गए हैं।  

whatsapp mail