धर्मेन्द्र प्रधान ने किया ‘प्लम्बिंग स्किल महोत्सव’ का उद्घाटन

img

नई दिल्ली
माननीय पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस तथा कौशल विकास एवं उद्यमिता मंत्री श्री धमेन्द्र प्रधान ने आज नई दिल्ली के त्यागराज स्टेडियम में इण्डियन प्लम्बिंग स्किल काउन्सिल द्वारा आयोजित ‘प्लम्बिंग स्किल महोत्सव’ का उद्घाटन किया। इस एक दिवसीय कार्यक्रम में भारत के सभी हिस्सों से 10,000 से अधिक प्लम्बर्स ने हिस्सा लिया, जिन्हें आधुनिक प्लम्बिंग तकनीकों में प्रशिक्षित किया गया था, इस मौके पर प्लम्बर्स को भागीदारी प्रमाणपत्र भी दिए गए। मोबाइल ऐप -प्लम्बिंग कनेक्ट का लॉन्च कार्यक्रम का मुख्य आकर्षण केन्द्र रहा, यह ऐप सेर्टिफाईड प्लम्बर्स को उपभोक्ताओं के साथ जोड़ेगा। प्लम्बिंग स्किल्स महोत्सव में सर्वश्रेष्ठ प्लम्बर्स ने हिस्सा लिया, जिन्हें अन्तर्राष्ट्रीय एवं घरेलू कंपनियों ने नौकरी मेले के माध्यम से नौकरियों के लिए चुना है। इसके अलावा कार्यक्रम के दौरान लकी ड्रॉ निकाले गए और भाग्यशाली विजेताओं को मोटरसाइकल, टीवी, टूल किट आदि पुरस्कार जीतने का मौका मिला। श्री धर्मेन्द्र प्रधान, माननीय कौशल विकास एवं उद्यमिता मंत्री ने कहा, ‘‘8 लाख से अधिक कार्यबल के साथ प्लम्बिंग भारत के सबसे बड़े कार्यबल समुदायों में से एक है। नव भारत के निर्माण के लिए प्लम्बिंग क्षेत्र में कुशल एवं प्रशिक्षित कार्यबल की आवश्यकता है। हमारी जि़म्मेदारी है कि हम अपने कार्यबल को आधुनिक तकनीक और कौशल के साथ सशक्त बनाए ताकि वे नव भारत की महत्वाकांक्षाओं के अनुरूप अपनी सेवाएं प्रदान कर सकें। आज प्लम्बिंग उद्योग में भी तेज़ी से बदलाव आ रहे हैं और बदलते प्लम्बिंग उद्योग के अनुसार प्लम्बर्स में भी बदलाव लाना ज़रूरी है। हम सुनिश्चित करेंगे कि हर प्लम्बर के पास बैंक खाता, जीवन, दुर्घटना एवं स्वास्थ्य बीमा हो जो उनकी सभी ज़रूरतों को पूरा कर सके। उन्होंने प्लम्बिंग समुदाय से अपील की है कि वे मुद्रा योजना के तहत ऋण सुविधा का लाभ उठाएं और स्वरोजगार की दिशा में आगे बढ़ें। ताकि आने वाले समय में उन्हें नौकरी न ढूंढनी पड़े, इसके बजाए वे कई और लोगों को रोजगार के अवसर उपलब्ध करा सकें। इस मौके पर मंत्री श्री धर्मेन्द्र प्रधान ने प्लम्बिंग समुदाय के विशेष लोगों को पुरस्कार दिए तथा प्लम्बिंग में कुशल उम्मीदवारों को प्रमाणपत्र भी दिए गए। प्लम्बिंग स्किल महोत्सव पर बात करते हुए डॉ आर. के. सोमानी, चेयरमैन, इण्डिया प्लम्बिंग स्किल्स काउन्सिल (आईपीएससी) ने कहा, ‘‘आईपीएससी में हम प्लम्बर्स के महत्व को समझते हैं। वे पानी की कमी, पानी से फैलने वाली बीमारियों जैसे मुद्दों को हल कर समाज को स्वच्छ एवं सुरक्षित रखने में महत्वपूर्ण योगदान देते हैं। हमने इस समुदाय और देश से वादा किया है कि हम 2022 तक 12 लाख कार्यबल को प्रशिक्षित करेंगे, इसमें से हम 90,000 से अधिक प्लम्बर्स को पहले से प्रशिक्षित कर प्रमाण पत्र दे चुके हैं। आईपीएससी अपनी विभिन्न गतिविधियों के माध्यम से भारतीय प्लम्बर्स को विश्वस्तरीय मंच पर लाने के लिए प्रतिबद्ध है।

whatsapp mail