एस्सार ग्लोबल ने भारतीय और विदेशी ऋणदाताओं को सभी कर्ज चुकाए

img

  • एस्सार ग्लोबल ने अपने विभिन्न भारतीय और विदेशी ऋणदाताओं को 12,000 करोड़ रुपए के ऋण की आखिरी किश्त चुका दी है।
  • 12,000 करोड़ रुपए का पुनर्भुगतान 2017 में उधारदाताओं को चुकाए गए 30,000 करोड़ रुपए (5 बिलियन यूएस डॉलर) से अलग है।
  • एस्सार ग्रुप ने 1,37,000 करोड़ रुपए का कर्ज चुकाया है, जो एक भारतीय कॉरपोरेट की ओर से चुकाया गया सबसे बड़ा कर्ज है।
  • एस्सार ग्लोबल ने मेसाबी मेटालिक्स इंक (एस्सार स्टील मिनेसोटा) की ओर से जारी 260 मिलियन यूएस डॉलर की फेसवैल्यू नोट्स खरीदे हैं।

मुंबई
एस्सार ग्रुप ऑफ कंपनीज की होल्डिंग कंपनी एस्सार ग्लोबल फंड लिमिटेड (एस्सार ग्लोबल) ने अपने विभिन्न भारतीय और विदेशी ऋणदाताओं को 12,000 करोड़ रुपए (1.75 बिलियन यूएस डॉलर) की आखिरी किश्त चुका कर एक नया मुकाम हासिल किया है। यह एस्सार ऑयल की ओर से विभिन्न उधारदाताओं को अगस्त 2017 में किए गए 30,000 करोड़ रुपए ( 5 बिलियन यूएस डॉलर) के पुनर्भुगतान से अलग है। पिछले दो वर्षों में एस्सार समूह ने 1,37,000 करोड़ रुपए (21 बिलियन यूएस डॉलर) का ऋण (एस्सार स्टील सहित) चुकाया है, जिसमें से अधिकांश भारतीय बैंकिंग प्रणाली का है। यह समूह ऋण के 80 फीसदी से अधिक है। एस्सार ग्लोबल ने अब आईसीआईसीआई बैंक, एक्सिस बैंक और स्टैंडर्ड चार्टर्ड बैंक को लगभग 6,300 करोड़ रुपए चुकाए हैं। इसके साथ, इन बैंकों को 31,500 करोड़ रुपए की उनकी पूरी फैसिलिटी वापस कर दी गई है, जो उन्होंने 2008-14 में अपने पूंजीगत व्यय कार्यक्रम को निधि देने के लिए एस्सार ग्लोबल को प्रदान की थी। एस्सार ग्लोबल के लिए एकमात्र निरंतर ऋणदाता अब वीटीबी है, जो पिछले तीन वर्षों से एस्सार ग्लोबल के साथ कुछ परिसंपत्तियों का मुद्रीकरण करने के लिए काम कर रहा है जो कि रणनीतिक रूप से बैलेंस शीट को हल्का करने, ग्रुप के कर्जे को कम करने और भविष्य में विकास के लिए इसका पुनः उपयोग करने के लिए है। अपने सभी मौजूदा सुरक्षित ऋणों को चुकाने के अलावा, एस्सार ग्लोबल ने एक साथ उन सभी ऋणदाताओं के साथ समझौता भी किया है जिन्होंने एस्सार स्टील मिनेसोटा लिमिटेड को ऋण सुविधाएं प्रदान की थीं और एस्सार ग्लोबल की असुरक्षित गारंटी के लाभार्थी थे। जिन उधारदाताओं के साथ समझौता किया गया है, उनमें आईसीआईसीआई बैंक, भारतीय स्टेट बैंक और डेविडसन केम्पनर के नेतृत्व में अंतरराष्ट्रीय निधियों का एक संघ शामिल हैं। उपर्युक्त समझौते के हिस्से के रूप में, एस्सार ग्लोबल ने मेसाबी मेटालिक्स इंक की ओर से जारी किए गए 260 मिलियन यूएस डॉलर अंकित मूल्य के नोट खरीदे हैं। ये नोट पर्याप्त रूप से मेसाबी के सभी ऋणों का गठन करते हैं, और एस्सार ग्लोबल के लिए एक बार फिर से मिनेसोटा, यूएस में निर्माणाधीन लौह अयस्क खनन और पेलेट निर्माण परियोजना में कम लागत में भाग लेने का मार्ग प्रशस्त करते हैं। 

एस्सार ग्रुप
एस्सार समूह ने बड़े पैमाने पर निस्तारण कार्यक्रम चलाया है, जिमसें ग्रुप ने 1,37,000 करोड़ रुपए (21 बिलियन यूएस डॉलर) का कर्ज चुकाया है। भारत के इतिहास में किसी भी कॉर्पोरेट की ओर से यह अपनी तरह का सबसे बड़ा कार्यक्रम है, जो कि अब अपनी समाप्ति की ओर है। एस्सार बहुत मजबूत और टिकाऊ बैलेंस शीट के साथ भविष्य में बढऩे की ओर से अग्रसर है। इस निस्तारण कार्यक्रम के कई चरण थे, जिनमें से कुछ इस तरह हैं-
2017 में, रोसनेफ्ट और ट्राफिगुरा के नेतृत्व वाले कंसोर्टियम को एस्सार ऑयल लिमिटेड की बिक्री के माध्यम से एस्सार ग्लोबल ने बैंकों को 72,600 करोड़ रुपए सहित समूह की देनदारियों का लगभग 86,000 करोड़ रुपया चुकाया था। पिछले दो वर्षों के दौरान टेलीपरफॉर्मेंस और सीएसपी को एजिस की बिक्री से लगभग 6,000 करोड़ रुपए (910 मिलियन यूएस डॉलर) और ब्रुकफील्ड एसेट्स मैनेजमेंट को इक्वानॉक्स बिजनेस पार्क की बिक्री से 2,400 करोड़ रुपए (360 मिलियन यूएस डॉलर) सहित अतिरिक्त एसेट्स बेचे गए। मिलियन)। इन बिक्री से हासिल हुई आय का उपयोग समूह को आगे बढ़ाने के लिए भी किया गया है। इसके अतिरिक्त एस्सार स्टील इंडिया से संबंधित समूह का 45,000 करोड़ रुपए का ऋण आईबीसी प्रोसेस के अधीन है। इस संबंध में, ऋणदाताओं को पहले ही आर्सेलर मित्तल से एक प्रस्ताव मिला चुका है, जिसमें उन्हें 42,000 करोड़ रुपए की नकद अदायगी की पेशकश की गई है। एस्सार ग्लोबल की एक सहायक कंपनी ने अलग से 54,389 करोड़ रुपए की पेशकश की है, जो सुरक्षित ऋणदाताओं के साथ-साथ परिचालन लेनदारों को पूर्ण पुनर्भुगतान प्रदान करती है। यह विषय, अभी चल रही अदालती प्रक्रिया के समापन के अधीन है, भारतीय बैंकों को एस्सार स्टील इंडिया के लिए अपने संपूर्ण जोखिम का पूरा भुगतान प्राप्त होगा। इसके अलावा, एस्सार ने एस्सार ऑयल के अल्पसंख्यक शेयरधारकों को 3,955 करोड़ रुपए का भुगतान किया है, जो उनके मूल निवेश पर 2,420 फीसदी रिटर्न का प्रतिनिधित्व करता है और एस्सार पोर्ट्स के अल्पसंख्यक शेयरधारकों को 1,400 करोड़ रुपए।

इस पर टिप्पणी करते हुए एस्सार कैपिटल के डायरेक्टर श्री प्रशांत रुइया ने कहाः
’2008 में, एस्सार ने ऊर्जा, बुनियादी ढांचा, धातु और खनन और सेवाओं के क्षेत्रों में बड़े पैमाने पर 1,20,000 करोड़ रुपये के निवेश कार्यक्रम की शुरुआत की थी। भारत सरकार द्वारा प्राकृतिक गैस की आपूर्ति को रद्द करना और 2010 से 2015 के बीच कोयला खदान आवंटन आदि सरकारी कार्रवाइयां और नियामक की प्रतिकूलता, एस्सार के नियंत्रण से बाहर और अप्रत्याशित थी और इसने एस्सार के कुछ व्यवसायों को प्रभावित किया। इसके परिणामस्वरूप पूरे समूह में अत्यधिक हलचल मच गई, यहां तक कि एस्सार को भी अपने व्यवसायों में नई इक्विटी का पर्याप्त प्रसार प्रदान करने के लिए प्रतिबद्ध होना पड़ा। पिछले दो वर्षों में हमने खुद को बड़े पैमाने पर निस्तारण करने वाले कार्यक्रमों के लिए प्रतिबद्ध किया है और अपने उधारदाताओं को 1,37,000 करोड़ रुपये से अधिक चुकाए हैं, जिनमें से अधिकांश भारतीय बैंकरों और उधारदाताओं के पास वापस गए हैं। एस्सार की ओर से बेची गई विभिन्न परिसंपत्तियों का विशेष मूल्यांकन होना इन परिसंपत्तियों और व्यवसायों की गुणवत्ता की गवाही देता है। यह, वह साख है जो हमने पिछले वर्षों में तैयार की है। डिलीवरेजिंग प्रोग्राम के साथ अब हम एक बहुत मजबूत और टिकाऊ बैलेंस शीट के साथ, विकास के लिए खुद को बदलने के लिए पूरी तरह तत्पर हैं। अपने मुद्रीकरण कार्यक्रम के पूरा होने के बाद एस्सार समूह के पास 11.5 बिलियन डॉलर का राजस्व है और ऊर्जा, अवसंरचना, धातु और खनन और सेवाओं के क्षेत्रों में हमारी मजबूत उपस्थिति है। समूह इन क्षेत्रों में अपना फोकस बनाए रखेगा और मौजूदा के साथ नए क्षेत्रों में अधिक अवसरों को खंगालेगा।

एस्सार के बारे में
एस्सार ग्लोबल फंड एक वैश्विक निवेशक है जो ऊर्जा, बुनियादी ढांचे, धातु और खनन और सेवाओं जैसे मुख्य क्षेत्रों में विविध रूप से फैला हुआ है। पोर्टफोलियो कंपनियों के पास लगभग 11.5 बिलियन यूएस डॉलर का राजस्व है और 4,500 से अधिक लोगों को यहां रोजगार मिला हुआ हैं। हम अवसरों की पहचान करते हैं, वैश्विक स्तर के एसेट्स का निर्माण और पोषण करते हैं, उनका मुद्रीकरण करते हैं और फिर से निवेश करते हैं, जिससे सभी हितधारकों को लगातार फायदा होता है।

whatsapp mail