आईआईएफएल होम फाइनेंस ने नेशनल हाउसिंग बैंक से 1000 करोड़ रुपये जुटाए

img

मुंबई
भारत की अग्रणी एवं विविध वित्तीय सेवाओं वाली कंपनियों में से एक, आईआईएफएल होल्डिंग्स लिमिटेड, ने आज घोषणा की है कि, इसकी सहायक कंपनी आईआईएफएल होम फाइनेंस लिमिटेड ने नेशनल हाउसिंग बैंक (एनएचबी) से 1,000 करोड़ रुपये और बाहरी वाणिज्यिक उधारी (ईसीबी) मार्ग के जरिये भारतीय स्टेट बैंक से 50 मिलियन डॉलर की अतिरिक्ती राशि जुटाई है। आईआईएफएल होम फाइनेंस भारतीय रिज़र्व बैंक के स्वचालित मार्ग के माध्यम से ईसीबी के लिए संशोधित नियमों के तहत प्रथम कर्जदारों में से एक है। आईआईएफएल होम फाइनेंस के सीईओ और कार्यकारी निदेशक मोनू रात्रा ने कहा, यह न केवल तरलता प्रदान करता है बल्कि हमारे एसेट लाएबिलिटी की प्रबंधन स्थिति को भी बेहतर बनाता है क्योंकि ये सुविधाएं 5-15 साल की अवधि के लिए हैं। ये फंड आईआईएफएल होम फाइनेंस को किफायती आवास वर्ग में अपनी बढ़ती लोन मांग को मजबूत करने में मदद करेंगे। हमारे लिए यह सामान्य रूप से एक व्यवसाय है क्योंकि हम खुदरा केंद्रित हाउसिंग फाइनेंस कंपनी हैं। आईआईएफएल होम फाइनेंस भारत की अग्रणी किफायती हाउसिंग फाइनेंस कंपनियों में से एक है और सितंबर 2018 तक इसकी प्रबंधनाधीन परिसंपत्ति 16,800 करोड़ रुपये थी। कंपनी ने वित्त वर्ष 2017-18 में 14,000 से अधिक ग्राहकों को प्रधान मंत्री आवास योजना के तहत सब्सिडी की सुविधा प्रदान की है, जो उल्लिखित योजना के तहत दी गई कुल सब्सिडी का 10' है। आईआईएफएल होम फाइनेंस का सबसे तेजी से बढ़ता लोन वर्ग ‘स्वराज लोन्स’ है, जिसका औसत टिकट आकार 13 लाख रुपये है। यह उत्पाद विशेष रूप से घर के मालिक होने के अपने सपने को पूरा करने में अनौपचारिक आय वर्ग का समर्थन करने के लिए डिज़ाइन किया गया है।

whatsapp mail