अमेजन ने भारत में अपना पहला मालिकाना और दुनिया का सबसे बड़ा कैंपस भवन का उद्घाटन किया

img

  • 9.5 एकड़ में फैले और 15,000 से अधिक कर्मचारियों के लायक निर्मित यह नया कैंपस भारत के प्रति अमेजऩ की दीर्घकालीन वचनबद्धता की पुष्टि है 
  • यह नया कैंपस यूएस के बाहर अमेजन का पहला मालिकाना ऑफिस बिल्डिंग है और दुनिया का सबसे बड़ा भवन है 
  • भारत में प्रतिभा (टैलेंट) पर फोकस में बढ़ोतरी, जहां सीएटल के बाद सबसे बड़े टेक बेस में अमेजऩ के 62,000+ पूर्णकालिक कर्मचारी और लगभग 1.55 लाख कांट्रैक्टब कर्मचारी अमेजऩ के लिए काम करते हैं
  • अलेक्सा पॉड के निर्माण के लिए और इनसाइड डे 1 अलेक्सा स्किल के प्रयोग के लिए अमेजऩ का पहला केंद्र 
  • इस कैंपस को कमचारियों की तंदुरुस्ती कायम रखने और समावेशन को बढ़ावा देने के लिए स्फूर्तिदायक वातावरण के ख्याल से बनाया गया है.

हैदराबाद
आर्थिक जिला हैदराबाद में अवस्थित, अमेजऩ ने आज दुनिया का अपना सबसे विशाल कैंपस भवन का उद्घाटन किया. इसके साथ ही अमेजऩ ने इस बात को एक बार पुन: स्थापित किया की भारत उसके लिए कितना महत्वपूर्ण प्रमुख बाज़ार और टैलेंट हब है. यह यूएस के बाहर अमेजऩ का एकमात्र मालिकाना कैंपस है जहां भारत में इसके 62,000 से अधिक कर्मचारियों में से 15,000 से अधिक कर्मचारी काम करेंगे। तेलंगाना के माननीय मुख्य मंत्री, कल्वकुंतल चंद्रशेखर राव की ओर से तेलंगाना सरकार में गृह, कारा, अग्नि सेवा के मंत्री, मोहम्मद महमूद अली, एमएलसी ने नए कैंपस भवन का उद्घाटन किया। अमित अग्रवाल, एसवीपी और कंट्री मैनेजर, अमेजऩ इंडिया ने कहा कि, 'हमें भारत के हैदराबाद में अपना सबसे बड़ा कैंपस भवन का उदघाटन करते हुए हम रोमांचित महसूस कर रहे हैं. विगत 15 वर्षों में हमने भारत में 30 ऑफिस स्पेसेस, मुंबई में एडब्लूएस एपीएसी रीजन, भारत के 13 राज्यों में 50 फुल्फिल्मेंट सेंटर्स और सैकड़ों डिलीवरी स्टेशन तथा छंटाई केन्द्रों में भारी निवेश किया है। जॉन शूटलर, वाईस प्रेसिडेंट (ग्लोबल रियल एस्टेट और फैसिलिटीज), अमेजऩ ने कहा कि, 'इंफ्रास्ट्रक्चर को अमेजऩ के कठोर मानदंडों के अनुसार डिजाईन किया गया है ताकि विशेष रूप से सक्षम सहकर्मियों सहित समस्त अमेजोनियन्स के बीच समावेशी और स्वामित्व की भावना का विकास हो।
यहाँ आरामदेह और सुविधाजनक कार्यस्थलों के कारण रचनात्मकता, उत्पादकता और सहयोग को प्रोत्साहन मिलता है जो अमेजऩ के वर्क कल्चर का अहम् हिस्सा हैं। आज भारत हमारे लिए पहला दिन है और हम एक ऐसा वातावरण बनाना चाहते हैं जहां आने वाले लम्बे समय तक विविध सहयोगियों का स्वागत और नवाचार को प्रोत्साहन मिलता रहेगा. कर्मचारी बहाली में अलेक्सा के इस्तेमाल के लिए अमेजऩ पहली बार इनसाइड डे 1 अलेक्सा स्किल (बीटा) के साथ प्रयोग भी कर रहा है. अमेजऩ के लोगों के द्वारा निर्मित इनसाइड डे 1 अलेक्सा स्किल (बीटा) को एक अलेक्सा पॉड के भीतर लगाया जाएगा जहाँ कर्मचारी आकर अलेक्सा से पूछकर अमेजऩ के बारे में तत्काल, प्रासंगिक और परेशानी रहित ढंग से जानकारी एक्सेस कर सकते हैं. इनसाइड डे 1 स्किल कर्मचारियों के लिए एक स्वयं-सहायता साधन है जिसके इस्तेमाल से वे अमेजऩ और हैदराबाद के नए केंद्र के बारे में अधिक समझ हासिल कर सकते हैं. इस सम्बन्ध में नयी बहाली के लिए ओरिएंटेशन, आतंरिक नीतियों और पद्धतियों, सुविधायें या अमेजऩ की लीडरशिप डेवलपमेंट इनिशिएटिव्स जैसे अलग-अलग तरह के प्रश्न हो सकते हैं. अमेजऩ ने इस कैंपस भवन की आधारशिला 30 मार्च, 2016 को रखी थी. 39 महीनों तक हर रोज औसतन 2,000 कामगारों ने 18 मिलियन मैन-ऑवर देकर इस विश्वस्तरीय कार्यस्थल का निर्माण किया. इस भवन में संवहनीयता को सर्वोच्च प्राथमिकता दी गयी है. इसके परिसर में 300 से अधिक पेड़ लगे हैं जिनमें 200 साल से अधिक पुराने 3 पेड़ हैं. यहाँ 8,85,000 लीटर क्षमता का एक वाटर रीसाइक्लिंग प्लांट भी स्थापित किया गया है. अमेजऩ ने भारत में अपना व्यावसायिक परिचालन पहली बार हैदराबाद से ही 2004 में आरम्भ किया था. आज अमेजऩ के भारत में इस नए कैंपस भवन सहित छ: कार्यालयों के कुल कर्मचारियों में से एक-तिहाई तेलंगाना राज्य में हैं. शहर में अमेजऩ के विभिन्न कार्यालयों से अनेक टेक्नोलॉजी / इंजीनियरिंग और ऑपरेशंस टीमें परिचालन करतीं हैं, जहां कंपनी का एक विषाल कस्टमर सर्विस ऑपरेशन भी है. इस राज्य में अमेजऩ के 3 फुलफिल्मेंट केंद्र भी है जहां विक्रेताओं के लिए 3.2 मिलियन घनफूट से अधिक स्टोरेज स्पेस, और 1,00,000 वर्गफूट की प्रोसेसिंग कैपेसिटी के दो छंटाई केंद्र और 90 डिलीवरी केंद्र उपलब्ध हैं. इनके अलावा, राज्य में 20,000 से अधिक लघु कारोबारी कंपनी के परिचालनों के साथ विक्रेता, आई हैव स्पेस दुकानदार सहयोगी, अमेजऩ इजी पॉइंट्स या सेवा प्रदाताओं के रूप में सीधे सम्बद्ध हैं. 

whatsapp mail