शैल लुब्रिकेंट्स ने ट्रक चालकों और मैकेनिक्स की सडक़ सुरक्षा के लिए दिया योगदान

img

जयपुर
तैयार लुब्रिकेंट्स के वैश्विक बाज़ार की अग्रणी कंपनी शैल लुब्रिकेंट्स इंडिया हमेशा से ही स्वास्थ्य एवं सुरक्षा के बारे में जागरूकता बढ़़ाने में अग्रणी रही है जिसका पूरे देश में लोगों के जीवन पर सकारात्मक असर पड़ता है। अपनी प्रतिबद्धता के अंतर्गत कंपनी ने दिल्ली-एनसीआर, बेंगलुरू, चेन्नई, अंबाला और जयपुर में ट्रांसपोर्ट नगर समेत पूरे देश के विभिन्न केंद्रों पर ट्रक चालकों, मैकेनिक्स और अन्य संबंधित ट्रांसपोर्ट कर्मचारियों के लिए नि:शुल्क नेत्र परीक्षण कैंपों का आयोजन करना शुरू किया। ऐसे कैंपों के आयोजन का विचार आंखों की अज्ञात बीमारियों और इलाज न मिलने के कारण बड़े पैमाने पर होने वाली सडक़ दुर्घटनाओं को देखते हुए आया है। फरवरी में शुरू किए गए इन कैंप के माध्यम से शैल इस वर्ष अब तक 13,000 से अधिक नेत्र परीक्षण करा चुकी है और 9,000 नि:शुल्क चश्मों का वितरण कर चुकी है। गुणवत्तापूर्ण स्वास्थ्यसेवा की कमी के कारण ट्रक चालकों जैसे लगातार यात्रा पर रहने वाले लोग बहुत कम ही अपनी सेहत को प्राथमिकता दे पाते हैं। इसका पता इस तथ्य से ही चलता है कि चश्मे प्राप्त करने वाले आधे से अधिक लोगों को अपनी दृष्टि संबंधी समस्या के बारे में पता ही नहीं था या फिर लगातार यात्रा पर रहने के कारण वे अपनी आंखों की जांच नहीं करा पाते थे। श्रीमती मानसी त्रिपाठी, कंट्री हेड, शैल लुब्रिकेंट्स, इंडिया ने कहा, ‘‘शैल लुब्रिकेंट्स में हम अपने सभी मूल्यवान साझेदारों को बेहतर और सुरक्षित ऑन रोड समाधान मुहैया कराने के प्रति प्रतिबद्ध हैं। यह नेत्र परीक्षण कैंप पिछले वर्ष शुरू किए गए हमारे राष्ट्रीय स्वास्थ्य अभियान का दूसरा हिस्सा है। हमें गर्व है कि 2018 में हमने 31,000 जीवन को छुआ और 2019 में बड़े पैमाने पर लोगों तक यह मदद पहुंचाने की उम्मीद कर रहे हैं।’’ ट्रक चालकों और मैकेनिक्स दोनों के बीच इस प्रयास को शानदार प्रतिक्रिया मिली। गाजिय़ाबाद के मैकेनिक शिव शंकर ने कहा, ‘‘मैं पिछले पांच वर्षों से अपनी आंखों की समस्या से जूझ रहा था। मेरे लिए संदेश पढऩा या मीटर देख पाना भी संभव नहीं रह गया था। आज मिले चश्मे की मदद से मैं एक बार फिर अच्छी तरह देख सकता हूं।’’ ट्रक चालकों और मैकेनिक्स की जांच की गई और अपवर्तन संबंधी गड़बडिय़ों, वर्णांधता और मोतियाबिंद जैसी आंखों की विभिन्न समस्याओं के लिए चिकित्सकीय सलाह दी गई। उपयुक्त जांच के बाद प्रतिभागियों को तत्काल ही नि:शुल्क चश्मे उपलब्ध कराए गए।

whatsapp mail