टाटा मोटर्स ने लखनऊ सिटी ट्रांसपोर्ट सर्विसेज लिमिटेड को 40 इलेक्ट्रिक बसों की आपूर्ति शुरू की

img

लखनऊ
देश में ई-मोबिलिटी के प्रति अपनी प्रतिबद्धता की एक बार और पुष्टि करते हुए, देश में बसों के अग्रणी ब्रान्ड, टाटा मोटर्स द्वारा लखनऊ सिटी ट्रांसपोर्ट सर्विसेज (एलसीटीएसएल) को अगले 4 महीनों में चरणबद्ध तरीके से अल्ट्रा 9एम एसी इलेक्ट्रिक बसों की आपूर्ति शुरू की जाएगी। माननीय शहरी विकास मंत्री सुरेश कुमार खन्ना ने पहली अल्ट्रा 9/9एम की एसी इलेक्ट्रिक बस को आज लखनऊ में हरी झंडी दिखाई। इस अवसर पर एलसीटीएसएल और टाटा मोटर्स के विशिष्ट अतिथि गण उपस्थित थे। नई बस अपनी यात्रा आलमगढ़ डिपो से आरंभ करेगी। इस अवसर पर टाटा मोटर्स के पैसेंजर्स कॉमर्शियल व्हीकल्स के प्रॉडक्ट लाइन हेड श्री रोहित श्रीवास्तव ने बताया, “टाटा मोटर्स ई-मोबिलटी के विकास में काफी आगे रहा है। 40 इलेक्ट्रिक बसों की आपूर्तिका यह ऑर्डर बसों के सेगमेंट में हमारी ओर से प्रदान किए जाने वाले सर्वश्रेष्ठ समाधान का प्रमाण है। यह ऑर्डर देश में 6 एसटीयू को सप्लाई की जाने वाली 255 ई-बसों का एक हिस्सा है, जिसमें से एक एलसीटीएसएल भी है। विभिन्नअ बाजारों और ग्राहकों के लिए स्थावयी परिवहन सुविधा की हमारी गहन समझ ही हमारे प्रतियोगियों से हमें अलग करती है। हम देश में इलेक्ट्रिक व्हीसकल्स को प्रमोट करने के लिए सरकार के प्रयासों का समर्थन करते हुए वैकल्पिक ईंधन तकनीक विकसित करने और ऊर्जा बचाने में सक्षम वाहन विकसित करने के लिए प्रतिबद्ध हैं। यह बसें टाटा मोटर्स और टाटा मार्कोपोलो के धारवाड़ स्थित प्लांट में बनाई गई है। यह अल्ट्रा इलेक्ट्रिक बसें एक बार चार्ज करने पर 150 किमी की दूरी तय कर सकती है। कंपनी ने बसों को चार्ज करने के लिए आलमबाग डिपो में एक चार्जिंग स्टेशन भी स्था1पित किया है। स्वदेशी ढंग से विकसित की गई यह बसें सर्वश्रेष्ठ डिजाइन के साथ आधुनिक फीचर्स से लैस हैं। इन बसों की छतों पर ली-आयन बैटरियां रखी जाती हैं, जिससे यह रास्ते में पानी भरा होने के कारण खराब न हो जाए। तापमान को आदर्श स्थिति में बनाए रखने के लिए इन बैटरियों को लिक्विड-कूल किया जाता है, जिससे उष्णकटिबंधीय क्षेत्रों में इन बसों की लंबी जिंदगी और अच्छी परफॉर्मेंस सुनिश्चित होती है। टाटा मोटर्स के सीवीबीयू में हेड इंजीनियरिंग (इलेक्ट्रिक एंड डिफेंस) के डॉ. ए. के. जिंदल ने कहा, “टाटा मोटर्स पिछले दशक से मिश्रित या पूर्ण रूप से इलेक्ट्रिक वाहन के लिए एडवांस इंजीनियरिंग और इलेक्ट्रिक ट्रैक्शन सिस्टम के विकास में जुटा है। अल्ट्रा इलेक्ट्रिक बसें एक मॉड्यूलर प्लेटफॉर्म है, जिसे एक साल से भी कम समय में विकसित किया गया है। इन बसों के विकास में हमने लंबे समय से ज्ञान और अनुभव का लाभ उठाया है। इस तरह हमने भारत सरकार के नेशनल इलेक्ट्रिक मोबिलिटी मिशन प्लान के प्रति अपनी प्रतिबद्धता को व्यक्त किया है। टाटा मोटर्स की इनहाउस इंजीनियरिंग टीम ने इस प्लेटफॉर्म का आर्किटेक्चर को जन्म दिया है और विकसित किया है। यह अलग-अलग ट्रांसपोर्ट निगमों की ओर से जमा किए गए टेंडर की आवश्यकताओं की पूर्ति करता है। बसों का बाहरी लुक नए ब्रैंड की पहचान के साथ डिजाइन किया गया है, जिसमें स्टाइलिश अल्ट्रा हेडलैंप और जबर्दस्त लुक शामिल है। वाहन का आर्किटेक्चर कम ऊर्जा की खपत और संचालन की कम लागत (टीसीओ) के साथ शून्य उत्सर्जन के साथ पर्यावरण के अनुकूल बस मुहैया कराना सुनिश्चित करता है। अल्ट्रा इलेक्ट्रिक बसें एयर कंडीशंड हैं। बसों का इंटीरियर आधुनिक हैं। इसमें 31 यात्रियों के बैठने के लिए सुविधाजनक सीटें हैं। इंडस्ट्री में पहली बार इन बसों में अगले और पिछले पहियों के लिए एयर सस्पेंशन होगा, जिससे यात्रियों के लिए सफर करना और भी आरामदायक हो जाएगा। इन बसों में इंटिग्रेटिड इलेक्ट्रिक मोटर जेनरेटर लगा हुआ है, जिनकी पीक पावर 333 एचपी है जोकि 197 हॉर्स पावर मुहैया कराता है, जिससे भीड़-भाड़ से भरी सड़कों पर इन इलेक्ट्रिक वाहनों को चलाने में किसी तरह की कठिनाई नहीं होती। इसमें गियर्स शिफ्ट करने की जरूरत नहीं होती। इस इलेक्ट्रिक वाहन में लगाए जाने वाले उपकरण अमेरिका, जर्मनी और चीन के बेस्ट सप्लायर्स से आते हैं, जो दुनिया भर में जांचे-परखे प्रॉडक्ट्स ही सप्लाई करते हैं। इन बसों को टाटा मोटर्स की ओर से जांचा-परखा और प्रमाणित किया गया है, जिनमें हिमाचल प्रदेश, चंडीगढ़, असम और महाराष्ट्र के अलग-अलग भागों में इसकी परफॉर्मेंस को टेस्ट किया गया है। उत्तर प्रदेश सरकार में शहरी परिवहन निदेशालय के संयुक्त निदेशक श्री अजित सिंह ने कहा, “यूपी सरकार का फोकस ट्रांसपोर्टेशन में क्रांति लाने पर है। सरकार आम आदमी को स्थाअयी, किफायती और सुरक्षित आवागमन के साधन मुहैया कराना चाहती है। इसीलिए हम ट्रांसपोर्टेशन के क्षेत्र में अग्रणी और दिग्गसज कंपनी टाटा मोटर्स के साथ सहयोग कर कंपनी की आधुनिक इलेक्ट्रिक बसों को यूपी के लोगों तक जाने के लिए तैयार है। यह बसें यूपी के लोगों के बसों में सफर करने के अनुभव को और शानदार बनाएगी। हम स्मार्ट और सुरक्षित ट्रांसपोर्टेशन के साथ लोगों को स्वच्छ पर्यावरण मुहैया कराना  चाहते हैं। मार्केट की गहरी समझ के साथ, टाटा मोटर्स स्टारबस अल्ट्रा 9एम एसी ई-बसें मुहैया करा रही है, जो जल्द ही लखनऊ की सड़कों पर आलमबाग टर्मिनल से गोमती नगर रूट पर दौड़ती नजर आयेंगी। हम भविष्य में स्मार्ट सिटी सॉल्यूशंस के लिए टाटा मोटर्स के साथ सहयोग मजबूत करने के लिए तत्पयर हैं। कंपनी के पास 6 पब्लिक ट्रांसपोर्ट उपक्रमों को 255 इलेक्ट्रिक बसों की आपूर्ति करने के टेंडर हैं, जिसमें डब्ल्यूबीटीसी (पश्चिम बंगाल), एलसीटीएसएल (लखनऊ), एआईसीटीएसएल( इंदौर), एएसटीसी (गुवाहाटी), जेएंडकेएसआरटीसी (जम्मू) और जेसीटीएसएल (जयपुर) शामिल हैं। इनके अलावा, कंपनी निकट भविष्य में अपने इलेक्ट्रिक मिनी-बस सेगमेंट के विकास पर भी काम कर रही है।

whatsapp mail