महिंद्रा म्युचुअल फंड ने ‘महिंद्रा प्रगति ब्लूचिप योजना’ शुरू की

img

  • भारत के टॉप स्टॉक्स का कुशल क्वालिटी पोर्टफोलियो; बाजार में अधिक स्थिर हाफ में निवेश ,
  • अल्फा जेनरेशन पर जोर के साथ उच्च कन्विक्शन बॉटप अप स्टॉक पिकिंग 
  • नया फंड ऑफर 22 फरवरी, 2019 से 08 मार्च, 2019 तक आरंभिक सब्सक्रिप्शन के लिए खुला रहेगा 

जयपुर
महिंद्रा ऐंड महिंद्रा फाइनेंशियल सर्विसेज लिमिटेड (एमएमएफएसएल) की पूर्ण स्वामित्व वाली अनुषंगी, महिंद्रा म्युचुअल फंड ने निवेशकों के लिए नई ओपन एंडेड इक्विटी स्कीम ‘महिंद्रा प्रगति ब्लूचिप योजना’ शुरू की। यह स्कीम उन निवेशकों के लिए है जो बड़ी पूंजीकरण वाली कंपनियों के डेरिवेटिव्स सहित प्रमुख रूप से इक्विटी एवं संबंधित सिक्योरिटीज से बने पोर्टफोलियो में निवेश कर दीर्घकालिक पूंजी वृद्धि एवं विकास अवसर चाहते हैं। महिंद्रा म्युचुअल फंड के प्रबंध निदेशक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी, श्री आशुतोष बिश्नोई ने कहा, ‘‘भारत की बड़ी पूंजीकरण वाली कंपनियों ने विभिन्न बाजार चक्रों में अपेक्षतया कम स्थिरता प्रदर्शित की है, हालांकि इन बाजार चक्रों में वैल्यूएशंस सापेक्षतया वाजिब रहे हैं, जो इसे सदाबहार पसंद बनाते हैं। जीडीपी के बाजार पूंजीकरण ने सकारात्मक प्रवृत्ति प्रदर्शित की है, जबकि बड़े पूंजीकरण ने ऐतिहासिक रूप से बाजार के आधे से अधिक का प्रतिनिधित्व किया है, जिससे यह निवेश के लिए मजबूत स्थिति प्रदान करता है। हमारा मानना है कि यह स्कीम आकर्षक दीर्घकालिक निवेश अवसर उपलब्ध करायेगी, इसलिए अपने निवेश पर उच्च पूंजी वृद्धि के इच्छुक निवेशकों को महिंद्रा प्रगति ब्लूचिप योजना में शामिल होने के बारे में विचार करना चाहिए। नये फंड ऑफर्स 22 फरवरी, 2019 को खुल रहे हैं और 08 मार्च, 2019 को बंद हो जायेंगे। यह स्कीम आवंटन की तिथि से 5 कारोबारी दिनों के भीतर लगातार बिक्री एवं पुनर्खरीद के लिए पुनः खुलेगी। महिंद्रा म्युचुअल फंड के चीफ इक्विटी स्ट्रेटजिस्ट, श्री वेंकटरमण बालासुब्रमण्यन ने कहा, ‘‘महिंद्रा प्रगति ब्लूचिप योजना का उद्देश्य अल्फा जेनरेट करने पर जोर देते हुए दमदार तरीके से उच्च कन्विक्शन कंसेंट्रेटेड पोर्टफोलियो हासिल करना है, और निवेश-वृद्धि एवं मूल्य की मिश्रित शैली का पालन करना है। रणनीतिक दृष्टि से, इस फंड का उभरती वृहत् प्रवृत्तियों के आधार पर विभिन्न अवधियों में संभावनाशील क्षेत्रों की पहचान के लिए टॉप डाउन एप्रोच होगा; हालांकि इस फंड में लघु से मध्यम निवेश अवधियों के लिए अच्छी गवर्नेंस एवं दमदार लीडरशिप टैक्टिकल कॉल्स वाली 100 बड़ी कंपनियों से बॉटम अप स्टॉक सेलेक्शन भी होगा। इस स्कीम में बड़ी पूंजीकरण वाली कंपनियों के इक्विटी एवं इक्विटी संबंधित उपकरणों में न्यूनतम 80 प्रतिशत का निवेश किया जायेगा, और 20 प्रतिशत तक निवेश अन्य कंपनियों के इक्विटी एवं इक्विटी संबंधित उपकरणों में किया जायेगा। इस स्कीम में डेब्ट एवं मुद्रा बाजार प्रतिभूतियों में 20 प्रतिशत तक निवेश किया जायेगा, और आरईआईटी एवं आईएनवीआईटी द्वारा जारी इकाइयों में 10 प्रतिशत तक निवेश किया जायेगा। म्युचुअल फंड में निवेश में बाजार जोखिम होता है, स्कीम से जुड़े सभी दस्तावेजों को ध्यानपूर्वक पढ़ लें।

महिंद्रा म्युचुअल फंड के विषय में 
महिंद्रा एस्सेट मैनेजमेंट कंपनी प्राइवेट लिमिटेड, कंपनी अधिनियम, 1956 के तहत शुरू की गई कंपनी है। यह महिंद्रा म्युचुअल फंड की निवेश प्रबंधक है। यह महिंद्रा ऐंड महिंद्रा फाइनेंशियल सर्विसेज लिमिटेड (एमएमएफएसएल) की पूर्ण स्वामित्व वाली अनुषंगी है। महिंद्रा म्युचुअल फंड पूरे भारत में और विशेषकर ग्रामीण एवं अर्द्धशहरी क्षेत्रों में तरह-तरह की म्युचुअल फंड स्कीम्स उपलब्ध कराने का प्रयास करता है।

वैधानिक जानकारीः महिंद्रा म्युचुअल फंड भारतीय न्यास अधिनियम, 1882 के तहत गठित एक ट्रस्ट है। स्पांसरः महिंद्रा ऐंड महिंद्रा फाइनेंशियल सर्विसेज लिमिटेड। (स्पांसर की देनदारी 1,00,000/- तक सीमित) न्यासीः महिंद्रा ट्रस्टी कंपनी प्राइवेट लिमिटेड, निवेश मैनेजरः महिंद्रा एस्सेट मैनेजमेंट कंपनी प्राइवेट लिमिटेड। कंपनी अधिनियम, 1956 के तहत स्पांसर, ट्रस्टी एवं निवेश मैनेजर बनाये गये हैं। 

महिंद्रा ऐंड महिंद्रा फाइनेंशियल सर्विसेज लिमिटेड के विषय में 
महिंद्रा ऐंड महिंद्रा फाइनेंशियल सर्विसेज लिमिटेड (महिंद्रा फाइनेंस), जो महिंद्रा समूह का घटक है, भारत की अग्रणी नॉन-बैंकिंग फाइनेंस कंपनियों में से एक है। ग्रामीण और अर्द्ध-शहरी क्षेत्र पर केंद्रित, इस कंपनी के ग्राहकों की संख्या 5.9 मिलियन से अधिक है और इसका एयूएम 9 बिलियन अमेरिकी डॉलर से अधिक है। यह कंपनी एक प्रमुख वाहन एवं ट्रैक्टर फाइनेंशियर हैं और यह एसएमई को फिक्स्ड डिपॉजिट एव लोन भी उपलब्ध कराती है। देश भर में इसके 1313 कार्यालय हैं और देश के 3,50,000 गांवों एवं 7,000 शहरों के ग्राहकों तक इसकी पहुंच है। महिंद्रा फाइनेंस भारत की इकलौती नॉन-बैंकिंग फाइनेंस कंपनी है, जिसे डाउ जोन्स सस्टेनेबिलिटी इंडेक्स पर इमर्जिंग मार्केट कैटेगरी में सूचीबद्ध किया गया है। महिंद्रा फाइनेंस को ग्रेट प्लेस टू वर्क®  (जीपीटीडब्ल्यू) इंस्टीट्युट इंडिया द्वारा टॉप 15 ‘‘इंडिया’ज बेस्ट वर्कप्लेसेज इन द बीएफएसआई सेगमेंट, 2018’’ की रैंकिंग दी गई। कंपनी की बीमा ब्रोकिंग अनुषंगी, महिंद्रा इंश्योरेंस ब्रोकर्स लिमिटेड (एमआईबीएल) एक लाइसेंसशुदा कंपोजिट ब्रोकर है, जो डाइरेक्ट एवं रीइंश्योरेंस ब्रोकिंग सेवाएं उपलब्ध कराता है। महिंद्रा रूरल हाउसिंग फाइनेंस लिमिटेड (एमआरएचएफएल), महिंद्रा फाइनेंस की अनुषंगी है, जो देश के ग्रामीण एवं अर्द्धशहरी क्षेत्रों में लोगों को मकान खरीदने, नवनिर्माण एवं विनिर्माण कराने हेतु ऋण उपलब्ध कराती है। महिंद्रा एस्सेट मैनेजमेंट कंपनी प्राइवेट लिमिटेड (एमएएमसीपीएल), महिंद्रा फाइनेंस की पूर्ण स्वामित्व वाली अनुषंगी है और यह महिंद्रा म्युचुअल फंड के निवेश मैनेजर के रूप में काम कर रही है। अमेरिका में कंपनी का संयुक्त उद्यम है, महिंद्रा फाइनेंस यूएसए एलएलसी, जिसमें राबो बैंक की अनुषंगी डे लागे लैंडेन साझीदार है और यह अमेरिका में महिंद्रा ट्रैक्टर्स की फाइनेंसिंग करती है। 

महिन्द्रा के विषय में 
महिन्द्रा समूह 20.7 बिलियन अमेरिकी डॉलर वाला कंपनियों का संघ है, जो नये-नये मोबिलिटी समाधानों के जरिए और ग्रामीण समृद्धि, शहरी रहन-सहन को बढ़ाते हुए, नये व्यवसायों को प्रोत्साहन देकर और समुदायों की सहायता के जरिए लोगों को राइज अर्थात़ उत्थान करने में सक्षम बनाता है। इसका ट्रैक्टर, उपयोगिता वाहन, सूचना प्रौद्योगिकी और वैकेशन ओनरशिप में अग्रणी स्थान है और यह वॉल्युम की दृष्टि से दुनिया की सबसे बड़ी ट्रैक्टर कंपनी है। कृषि-व्यवसाय, एयरोस्पेस, कल-पुर्जे, परामर्श सेवाओं, प्रतिरक्षा, ऊर्जा, औद्योगिक सेवाओं, लॉजिस्टिक्स, जमीन-जायदाद, खुदरा, इस्पात और दोपहिये उद्योगों में महिन्द्रा की महत्वपूर्ण मौजूदगी है। इसका मुख्यालय भारत में है। महिन्द्रा में 100 से अधिक देशों में 2,40,000 से अधिक कर्मचारी कार्यरत हैं।

whatsapp mail