11,000 करोड़ रुपए के रिटेल ऋण वितरित करेगा आईसीआईसीआई बैंक

img

जयपुर
समेकित परिसंपत्तियों के लिहाज से भारत में निजी क्षेत्र के सबसे बड़े बैंक आईसीआईसीआई ने राजस्थान में अपने खुदरा ऋण वितरण को 20 फीसदी बढ़ाकर 11,000 करोड़ रुपए करने की घोषणा की है। बैंक पर्सनल और दोपहिया वाहन के साथ-साथ गृह ऋण वाले अपने कंज्यूमर ऋण पोर्टफोलियो का तेजी से विस्तार करके इस लक्ष्य तक पहुंचने की योजना में है। बैंक, वित्त वर्ष 2019 में उपभोक्ता ऋण के अपने वितरण को 30 फीसदी बढ़ाकर 3500 करोड़ रुपए तक बढ़ाने की योजना बना रहा है। बैंक अपने गृह ऋण वितरण को लगभग 30 फीसदी बढ़ाकर 2600 करोड़ रुपए करेगा। आईसीआईसीआई बैंक के कार्यकारी निदेशक अनूप बागची ने कहा, 'पिछले कुछ वर्षों से राजस्थान में खुदरा उपभोक्ता ऋणों में उल्लेखनीय वृद्धि देखने को मिल रही है। राज्य की अर्थव्यवस्था में मजबूत वृद्धि के साथ इस वित्त वर्ष में हम खुदरा ऋण वितरण में 20 फीसदी बढ़ोतरी के साथ 11,000 करोड़ रुपए की संभावना देखते हैं। हम राज्य में वृद्धि के लिए घर, व्यक्तिगत और दोपहिया ऋणों पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं। बैंक, किफायती आवास खंड पर ध्यान केंद्रित कर रहा है और बीकानेर, किशनगढ़, निम्बाहेड़ा, सीकर और श्रीगंगानगर जैसे टियर 2 और 3 बाजारों में अपनी पहुंच का विस्तार कर रहा है क्योंकि ये बाजार गृह ऋण लेने में आगे हैं। अन्य उपभोक्ता ऋणों के लिए बैंक प्रदेश के अधिक से अधिक शहरों में अपने वितरण का विस्तार करना चाहता है। त्वरित और आसान ऋण प्रदान करने में बैंक की डिजिटल ताकत का फायदा मिलेगा। बागची ने कहा, 'पिछले कुछ वर्षों से प्रदेश में होम लोन के लिए हमारी विकास दर 30 फीसदी रही है और हम इस गति को जारी रखने की योजना बना रहे हैं। हम राजस्थान में अपने गृह ऋण वितरण को 2600 करोड़ रुपए तक बढ़ाने का इरादा लिए हुए हैं। विकास की इस दर को बनाए रखने के लिए हम कई स्तरों पर काम करेंगे - इनमें किफायती आवास पर ध्यान केंद्रित करना, क्रेडिट प्रोसेसिंग सेंटर की संख्या को 8 से 12 तक बढ़ाने और नए उत्पादों को पेश करने के लिए टियर 2 और 3 बाजारों में अपनी मौजूदगी का विस्तार करने जैसे उपाय शामिल हैं। पर्सनल लोन के बारे में बात करते हुए श्री बागची ने कहा, 'हम अपने डिजिटल चैनलों के जरिए प्री-अप्रूव्ड ग्राहकों के लिए 'इंस्टा पीएल' जैसी नई सेवाओं की पेशकश करते हुए बैंक की डिजिटल पावर का लाभ उठा रहे हैं। इस विशेष खंड को खासतौर पर प्रदेश के छोटे शहरों में उत्साहजनक प्रतिक्रिया मिल रही है। इसे ध्यान में रखते हुए, बैंक प्रदेश के टियर 2 और 3 कस्बों में अपने नेटवर्क का विस्तार कर रहा है  जिससे इसे और अधिक सुलभ बनाया जा सके। दोपहिया ऋणों पर उन्होंने कहा, ' बिजनेस को मजबूती देने के लिए डीलरों के विस्तृत नेटवर्क और शाखाओं के माध्यम से हमने भीलवाड़ा, बीकानेर, चुरु, सवाई माधोपुर, अलवर और सीकर जैसे प्रदेश के शहरों में 25 नई जगहों पर अपनी मौजूदगी बढ़ाई है। साथ ही हम मोबाइल और टैबलेट की एप्लीकेशन के माध्यम से पूरी तरह से डिजिटल ऋण सोर्सिंग, ऋण देने संबधी निर्णय और वितरण प्रक्रिया को सक्षम करने वाले पहले बैंक हैं। हम इस वित्त वर्ष में कारोबार में तीन गुना वृद्धि की उम्मीद लिए हुए हैं।

whatsapp mail