उजाला क्रेडिट को-ऑपरेटिव सोसाइटी की रिद्धि-सिद्धि -8 योजना को भारी समर्थन

img

नई दिल्ली
घर-घर में वित्तीय उजाला पहुंचाने के अपने विजन के अनुरूप कार्य करते हुए उजाला क्रेडिट को-ऑपरेटिव सोसाइटी ने कई आकर्षक योजनाएं प्रारंभ की हैं। उनमें से देश की बेटियों को संबल प्रदान करने वाली उजाला की रिद्धि-सिद्धि-8 योजना खासी प्रचलित हुई है। गौरतलब है कि रिद्धि-सिद्धि योजना के अंतर्गत 1 दिन से लेकर 12 वर्ष तक की आयु की कन्याओं के कल्याण हेतु उनके माता-पिता व अभिभावक जिसके प्रश्रय में कन्या जीवन यापन कर रही है एक आवर्ती जमा खाता खोल सकते हैं। इस योजना के अंतर्गत जमाकर्ता/अभिभावक की दुर्भाग्यवश असमय मृत्यु होने पर योजना अवधि की शेष बची हुई किश्तें उजाला परिवार की तरफ  से दी जाती हैं। कुल 8 वर्षों की रिद्धि.सिद्धि योजना का न्यूनतम मासिक इस्टालमेंट 1000 रू प्रति माह है और उजाला इस योजना के अंतर्गत जमाकर्ता को आकर्षक 10.5' वार्षिक ब्याज दे रहा है। योजना पूर्ण होने पर या जमाकर्ता की मृत्यु होने पर पूर्ण परिपक्वता राशि एवं ब्याज स्थिति अनुसारए चेक द्वारा योजना का समय पूर्ण होने पर दी जाएंगी और यदि बेटी नाबालिग है तब बेटी तथा नॉमिनी (संयुक्त रूप में) को और बालिग होने पर केवल बेटी को। योगेन्द्र पाल कंट्री हेड उजाला क्रेडिट को-ऑपरेटिव सोसाइटी लिमिटेड ने कहा, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा बेटियों के उत्थान एवं उन्हें स्वावलंबी बनाने की मुहिम के अनुरूप ही देश की बेटियों के लिए बेहद खास है उजाला की रिद्धि सिद्धि योजना जिसकी सहायता से बेटियां बिना किसी बाधा के जीवन में अपने मनचाहे लक्ष्य को प्राप्त कर सकती है। हमें इस योजना पर पूरे देश में सदस्यों का जबर्दस्त रिस्पोन्स मिल रहा है। उजाला क्रेडिट को-आपरेटिव सोसाइटी की स्थापना का उद्देश्य ही लोगों में बचत की भावना को प्रेरित करना है। और साथ ही साथ यदि आवश्यकता है तो समाज के निम्नतम स्तर के लोगों को वित्तीय सहायता (ऋण) प्रदान करते हुए उनके उद्यमों व व्यवसाय को प्रोत्साहित करने एवं उनके जीवन स्तर में बदलाव लाने का प्रयास करना है। उजाला का मिशन है हर घर में सदस्यों में बचत की आदत को प्रोत्साहित करना एवं उनकी आर्थिक समृद्धि एवं उद्यमिता के लिए उन्हें ऋण प्रदान करना। 

whatsapp mail