खादिम्स के #LetsTakeAStep कैम्पेन को विराट सफलता मिली

img

शहर के वंचित लोगों को हजारों जोड़ी पुराने जूते दान किए

कोलकाता
फेस्टिव सीजन के आगमन का मतलब है नए-नए कपड़ों, जूलरी, एक्सेसरीज और जूतों की शॉपिंग। अधिकतर नागरिकों के लिए यह आनंद और उत्सव मनाने का समय होता है। लेकिन उन लोगों का क्या, जो दूसरों की तुलना में कम सौभाग्यशाली हैं और जिन्हें दूसरों के मुकाबले बहुत कम सुविधाएं प्राप्त हैं? त्यौहार के मौसम में इस समस्या का समाधान करने और कुछ लोगों के चेहरों पर मुस्कुराहट लाने के लिए भारत के अग्रणी घरेलू फुटवियर ब्रांड खादिम्स ने होप कोलकाता फाउंडेशन और रोटरी क्लब ऑफ कोलकाता इनरसिटी के साथ मिलकर एक अनोखा अभियान #LetsTakeAStep चलाया, जिसके माध्यम से उन्होंने महानगर में सड़क पर रहने वाले लोगों तथा वंचित लोगों को जूते उपलब्ध कराए। इस कैम्पेन का समापन श्री अमित गोप (हेड मार्केटिंग, खादिम इंडिया लिमिटेड), सुश्री गीता वेंकदाकृष्णन (निदेशक, होप कोलकाता फाउंडेशन) और ग्लैमरस अभिनेत्री स्राबंती चैटर्जी की उपस्थिति में गरीबों को जूते वितरित करने के साथ हुआ। इस सामाजिक गतिविधि पर अपने विचार व्यक्त करते हुए खादिम इंडिया लिमिटेड के निदेशक श्री रित्तिक रॉय बर्मन ने कहा, “मुझे यह घोषणा करते हुए बेहद प्रसन्नता हो रही है कि हमने #LetsTakeAStep पहल को सफलतापूर्वक पूरा कर लिया है। इस पहल का मुख्य उद्देश्य उन लोगों के चेहरे पर मुस्कान खिलाना था, जो अपनी एक जोड़ी जूते जैसी बुनियादी जरूरत तक को पूरा कर पाने में समर्थ नहीं हैं। हमें बेहद खुशी है कि हमारी इस पहल को पहले ही साल में इतना शानदार रिस्पॉंस मिला। मैं हर उस व्यक्ति को धन्यवाद देना चाहता हूं जिसने इस नेक काम में भाग लिया और अपने जूते दान किए। इस विचार को सामने लाने और कैम्पेन को सफलतापूर्वक सम्पन्न करने के लिए मैं खादिम्स फेमिली के प्रयासों की भी सराहना करना चाहूंगा। यह खादिम्स की तरफ से अपनी तरह की अनूठी पहल थी, और मुझे उम्मीद है कि यह साल-दर-साल फलती-फूलती जाएगी। महानगर में ऐसे हजारों लोग हैं जो बारिश, गर्मी, ठंड में नंगे पैर चलने को मजबूर हैं और जिन्हें रोजाना छालों, घावों और झुलसाव का शिकार होना पड़ता है। इसके अलावा नंगे पैर चलने से वे विभिन्न रोगों और संक्रमणों को भी न्यौता देते हैं। इस कैम्पेन ने नागरिकों से खादिम्स के चुनिंदा आउटलेट्स में अपने पहनने लायक पुराने जूते दान करने की अपील की थी। महीने भर के कैम्पेन में 2259 से ज्यादा जोड़ी जूते जमा हो गए और हर 2 जोड़ी जूतों पर खादिम्स ने अपनी तरफ से जूतों की एक नई जोड़ी मिलाकर दान की। अभिनेत्री स्राबंती चटर्जी का कहना है, "मेरी राय में यह खादिम्स की वाकई शानदार पहल है। मैं उन्हें बधाई देना चाहूंगी। दान में जूते पाने वाले लोगों के चेहरों पर मुस्कान देख कर दिल भर आया। बात को आगे बढ़ाते हुए होप कोलकाता फाउंडेशन की निदेशक सुश्री गीता वेंकदाकृष्णन ने कहा, “यह खादिम्स की ओर से की गई एक बहुत अच्छी पहल थी और इसका हिस्सा बनकर हम बेहद गर्व महसूस कर रहे हैं। बहुत से लोग ऐसे हैं जो अपने भोजन, कपड़ों और जूतों जैसी बुनियादी जरूरतों का खर्च उठाने में असमर्थ हैं। इस समस्या पर ध्यान देने और जूते उपलब्ध कराने के लिए हम खादिम्स को धन्यवाद देना चाहते हैं। हम यह सुनिश्चित करेंगे कि एकत्र किए गए जूते जरूरतमंदों तक अवश्य पहुंचें। खादिम इंडिया लिमिटेड के मार्केटिंग हेड श्री अमित गोपे ने आगे बताया, "#LetsTakeAStep कैम्पेन हमारी कंपनी के 'टू बी इन इवरी इंडियन स्टेप’ मिशन से निकला था। होप फाउंडेशन से जब मैंने ऐसे हजारों लोगों की व्यथाएं सुनीं, जो कोलकाता में ही नंगे पैर चलने को मजबूर हैं; और उन बच्चों का तो कहना ही क्या, जो बिना जूतों के स्कूल जाते हैं, तो उन कहानियों को सुनकर मेरा दिल दहल उठा! इस कैम्पेन के लिए हमारा उद्देश्य न केवल लोगों को एक जोड़ी जूते पहनाना था, बल्कि पैरों की साफ-सफाई को लेकर उन्हें जागरूक करना भी था। इस गतिविधि को हम अखिल भारतीय स्तर पर आयोजित करने की इच्छा रखते हैं और आगामी वर्षों में इसे और बड़ा व बेहतर बनाना चाहते हैं।

whatsapp mail