नोटबंदी के विरोध में विपक्ष 8 नवंबर को मनायेगा काला दिवस, देशभर में होंगे प्रदर्शन

img

  •    8 नवंबर को विपक्षी पार्टियां काला दिवस मनाएंगी
  •     पिछले साल इसी दिन नोटबंदी की घोषणा की गई थी
  •     सभी विपक्षी पार्टियां देशभर में प्रदर्शन करेंगी: आजाद

नई दिल्ली।  नोटबंदी को ''सदी का सबसे बड़ा घोटाला'' करार देते हुए विपक्ष ने मंगलवार को घोषणा की कि इस फैसले के एक साल पूरे होने पर विपक्षी दल आठ नवंबर को ''काला दिवस'' मनायेंगे तथा देश भर में विरोध-प्रदर्शन करेंगे। विपक्ष का दावा है कि नोटबंदी के कारण अर्थव्यवस्था एवं नौकरियों को नुकसान पहुंचा है। राज्यसभा में विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद ने मंगलवार को संवाददाताओं को संबोधित करते हुए कहा कि पिछले साल आठ नवंबर को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 1000 रूपये और 500 रूपये के नोटों को प्रचलन से बंद किये जाने की घोषणा की थी। विपक्ष ने तभी नोटबंदी के फैसले के कारण अर्थव्यवस्था की हालत बुरी होने, बेरोजगारी बढऩे और सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) कम होने की आशंका जतायी थी। आजाद ने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने नोटबंदी के कारण जीडीपी में दो प्रतिशत कमी आने की जो आशंका जतायी थी, वह पूरी तरह सही साबित हुई। आजाद के साथ संवाददाता सम्मेलन में तृणमूल कांग्रेस के नेता डेरेक ओब्रायन और जदयू के शरद यादव भी मौजूद थे।