पुष्कर मेले में घोड़ों पर लगी रोक, पशुपालकों ने जताई नाराजगी

img

  • अश्व वंश में चल रही संक्रमण बीमारी

अजमेर  राजस्थान में लगने वाले अंतरराष्ट्रीय पुष्कर मेले में इस साल अश्व वंश को मेले में साथ लाने पर रोक लगा दी है। मेले में अश्व वंश पर रोक लगाने के बाद पशुपालकों खास तौर पर घोड़ा व्यापारियों में काफी रोष हैं। अश्व वंश में चल रही संक्रमण बीमारी ग्लैंडर के चलते लगाई गई रोक विवाद का कारण बन गई है। इस बीमारी के चलते इस बार सरकार ने पुष्कर मेले में घोड़े, खच्चर और गधे जैसे पशुओं के पुष्कर मेले में आने से रोक लगा दी गई है। पशुपालकों का कहना है कि पशुपालन विभाग ने यह स्पष्ट रूप से साफ नहीं किया है कि यह बीमारी कहां फैली और कब फैली। पशुपालन विभाग के अतिरिक्त निर्देशक भवानी सिंह ने पशुपालकों से वार्ता कर इस बीमारी के बारे में बताते हुए पशुपालकों को संतुष्ट करने की कोशिश की, लेकिन पशुपालकों के सवालों का जवाब वो नहीं दे पाए।
पशुपालकों ने आरोप लगाया कि पुष्कर मेले को खत्म करने के लिए पशुपालन विभाग और अन्य लोगों द्वारा साजिश रची गई है। पिछले साल नोटबंदी के बाद इस बार कोटा बंदी पशुपालकों पर भारी पड़ती नजर आ रही है। इसी को लेकर तहसील कार्यालय में बैठक रखी गई।