बैंकों से कर्ज उठाव की वृद्धि दहाई अंक में बरकरार

img

मुंबई
बैंकों से कर्ज उठाव में होने वाली वृद्धि दहाई अंक में बनी हुई है। भारतीय रिजर्व बैंक के ताजा आंकड़ों के अनुसार 19 जनवरी को समाप्त पखवाड़े में बैंकों की ऋण वृद्धि 10.58 प्रतिशत रही। हालांकि, समीक्षाधीन अवधि की तुलना यदि इससे पिछले पखवाड़े की ऋण वृद्धि से की जाये तो यह कुछ कम रही है। पिछले पखवाड़े में ऋण वृद्धि 11.11 प्रतिशत रही। 
दिसंबर 2017 में गैर-खाद्य ऋण दिसंबर 2016 के 4 प्रतिशत से बढ़कर 10 प्रतिशत हो गया है। वहीं, कृषि और उससे संबंधित गतिविधियों का ऋण दिसंबर 2017 में 9.5 प्रतिशत हो गया जबकि दिसंबर 2016 में यह 8.2 प्रतिशत था। 19 जनवरी 2018 को समाप्त पखवाड़े में जमा 5.10 प्रतिशत बढ़कर 1,09,77,980 करोड़ रुपये हो गई। पिछले पखवाड़े में जमा 1,04,45,112 करोड़ था। पिछले कुछ महीनों में बैंक की ऋण वृद्धि उनमें जमाओं की वृद्धि दर से अधिक रही है।
 रेटिंग एजेंसी इक्रा ने नोट में कहा था कि उम्मीद है कि बैंक निकट भविष्य में जमा पर ब्याज दर बढ़ा सकते हैं। पिछली तिमाही के दौरान बैंकों में कर्ज राशि खातों में जमा राशि से अधिक तेजी देखी गयी। चालू वित्त वर्ष में पांच जनवरी तक बढ़ा हुआ कर्ज 2.02 लाख करोड़ रुपये रहा, जो कि इस दौरान 1.27 लाख करोड़ रुपये की जमाओं से अधिक रहा है। इक्रा की रिपोर्ट में कहा गया है कि सरकार ने हाल में पुनर्पूंजीकरण कार्यक्रम के तहत बैंकों में 88,139 करोड़ रुपये की पूंजी डाली है। इससे आगामी महीनों में सरकारी बैंकों की ऋण वृद्धि की रफ्तार बढ़ेगी।