पांच फिल्में जिनमें दिखेगा बुलंदशहर जैसा बवाल 

img

सोमवार को उत्तर प्रदेश के जिला बुलंदशहर के स्याना तहसील के गांव महाव में कुछ हिंदूवादी संगठनों और ग्रामीणों में जमकर टकराव होने से आसपास के क्षेत्र में दंगे जैसा माहौल है। यह टकराव उस समय हुआ जब कथित गोवंश अवशेष मिलने पर लोग भड़क गए। हिंदूवादी संगठनों और ग्रामीणों के इस टकराव में स्याना थाने के कोतवाली इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह की मौत हो गई। आसपास का माहौल काफी तनावपूर्ण हो गया है। भारत में पहले भी कई बड़े दंगे हो चुके हैं। इन बड़े दंगों को बॉलीवुड के निर्देशक-निर्माताओं ने अपनी फिल्मों में भी जगह दी है। दंगों के ऊपर बॉलीवुड में अब तक कई फिल्में बन चुकी हैं।  
फिल्म- फिराक
यह फिल्म साल 2002 में हिंदू-मुस्लिम के बीच हुए गुजरात दंगों पर आधारित है। इस फिल्म का निर्देशन नंदिता दास ने किया है। फिल्म फिराक 2009 में आई थी। इस फिल्म में परेश रावल और नसीरुद्दीन शाह जैसे कलाकार मुख्य भूमिका में थे।
फिल्म- बॉम्बे
यह फिल्म साल 1995 में आई थी। इस फिल्म का निर्देशन मणिरत्नम ने किया था। फिल्म बॉम्बे साल 1992 में हुए बाबरी मस्जिद विध्वंस करने के बाद जगह-जगह हुए दंगों पर आधारित फिल्म है। यह एक तेलुगु भाषी फिल्म है। इस फिल्म में अरविंद स्वामी और मनीषा कोइराला मुख्य भूमिका में थे। 
फिल्म- ब्लैक फ्राइडे
इस फिल्म का निर्देशन दिग्गज डायरेक्टर अनुराग कश्यप ने किया है। इस फिल्म में साल 1993 में मुंबई में हुए बम ब्लास्ट को दिखाया गया है। यह फिल्म साल 2007 में रिलीज हुई थी।
फिल्म- शाहिद
इस फिल्म में राजकुमार राव मुख्य भूमिका में थे। यूं तो यह फिल्म आतंकवाद को भी प्रदर्शित करती हैं, लेकिन फिल्म में कई जगह दंगे जैसे स्थिति को बहुत अच्छे से दिखाया गया है। फिल्म शाहिद का निर्देशन हंसल मेहता ने किया है।
फिल्म- काई पो चे
यह फिल्म तीन दोस्तों की कहानी पर आधारित है, जिनके अलग-अलग सपने होते हैं। इस बीच फिल्म के अंदर गुजरात दंगे को दिखाया गया है। फिल्म काई पो चे साल 2013 में रिलीज हुई थी। इस फिल्म का निर्देशन अभिषेक कपूर ने किया है। 

whatsapp mail