वुहान में दूर हुईं भारत-चीन के बीच गलत फहमियां 

img

वल्र्ड डेस्क
भारत का कहना है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग के बीच वुहान शिखर वार्ता में दोनों देशों की गलतफहमियां दूर हुई हैं, जिससे दोनों देश वैश्वीकरण जैसे कई मुद्दों पर मिलकर काम कर सकेंगे। चीन में भारत के राजदूत गौतम बंबावले ने बताया कि वुहान सम्मेलन में दोनों नेताओं ने करीब 10 घंटे तक बातचीत की। दोनों नेता इस तरह की अनौपचारिक बैठक करना चाहते थे, ताकि अधिकतम समय एक-दूसरे से बात कर सकें। इस महीने सेवानिवृत्त हो रहे बंबावले की जगह म्यामांर में भारतीय राजदूत विक्रम मिश्री लेंगे। बंबावले ने गुरुवार को चीन के सरकारी टेलीविजन को दिए इंटरव्यू में कहा, मुझे लगता है कि बहुत सी ऐसी चीजें हैं, जो भारत और चीन मिलकर कर सकते हैं। दोनों देश बहुपक्षवाद के लाभार्थी हैं और हम चीन की तरह वैश्वीकरण का समर्थन करते हैं। दोनों देश मानते हैं कि वे विकासशील देश हैं, जिन्हें करीब 2.4 अरब लोगों का जीवनस्तर सुधारना है।  
 

whatsapp mail