इजरायल से बड़ा सौदा किया भारत ने दुश्मन की चुनौती को आकाश में नेस्तनाबूद करने के लिए

img

यरूशलम
खुद को सुरक्षित करने और दुश्मन की चुनौती को आकाश में ही नेस्तनाबूद करने के लिए भारत ने अब इजरायल के साथ बड़ा रक्षा समझौता किया है। इस सौदे में भारत बराक 8 एयर एंड मिसाइल डिफेंस सिस्टम खरीदेगा। यह सौदा 777 मिलियन डॉलर (करीब 5,700 करोड़ रुपये) का होगा। इस डिफेंस सिस्टम को तैयार करने में भारत ने भी अहम भूमिका निभाई है। इसी महीने रूस के साथ हुए पांच अरब डॉलर के एस-400 एयर डिफेंस सिस्टम खरीद सौदे के बाद भारत की यह दूसरी बड़ी डील है। ताजा सौदे से जाहिर तौर चीन और पाकिस्तान की ओर से पैदा चुनौती से बेहतर तरीके से निपटने में मदद मिलेगी और देश ज्यादा सुरक्षित होगा। इजरायल से खरीदा जाने वाला सतह से आकाश में मार करके दुश्मन की हमलावर मिसाइलों को रास्ते में ही नष्ट कर देगा। यह सिस्टम वस्तुत: नौसेना के सात हमलावर जहाजों की सुरक्षा के लिए लिया जा रहा है। इजरायल की नौसेना इसका इस्तेमाल कर रही है। वैसे इस डिफेंस सिस्टम का इस्तेमाल वायुसेना और थल सेना भी कर सकते हैं। डिफेंस सिस्टम को बनाने वाली कंपनी इजरायल एयरोस्पेस इंडस्ट्रीज (आइएआइ) ने कहा है कि भारत के साथ मिलकर तैयार किए गए बराक 8 सिस्टम सौदे से दोनों देशों के रक्षा संबंध और मजबूत हुए हैं। दोनों देशों का रक्षा व्यापार अब बढ़कर छह अरब डॉलर (करीब 44 हजार करोड़ रुपये) से ज्यादा का हो गया है।
बराक 8 एयर डिफेंस सिस्टम खासतौर पर समुद्री क्षेत्र की सुरक्षा के लिए तैयार किया गया है। दुश्मन के हवाई, समुद्री और जमीनी हमलों से बचाव करते हुए उस पर जवाबी हमला करने के लिए इस सिस्टम का बखूबी इस्तेमाल किया जा सकता है। यह सिस्टम अत्याधुनिक तकनीक से लैस है। इसमें डिजिटल रडार सिस्टम, कमांड एंड कंट्रोल, लांचर, इंटरसेप्टर, अत्याधुनिक रेडियो फ्रिक्वेंसी, बड़े स्तर की डाटा लिंक कनेक्टिविटी की सुविधा है।सिस्टम के रडार मिसाइल ही नहीं हर तरह के विमान, हेलीकॉप्टर, ड्रोन और अन्य उडऩशील उपकरणों को पकडऩे में सक्षम हैं। ये एक साथ दुश्मन के कई लक्ष्यों पर हमला भी कर सकते हैं। यह सिस्टम सभी मौसम में रात और दिन में समान रूप से कार्य करने में सक्षम है।

whatsapp mail