पाकिस्तान छोड़ सकती है ईशनिंदा के दोष से बरी ईसाई महिला 

img

वल्र्ड डेस्क
पाकिस्तान में ईशनिंदा के मामले में बरी हुई 47 वर्षीय ईसाई महिला कट्टरपंथियों की तरफ से जान के खतरे और विरोध प्रदर्शन को देखते हुए देश छोड़ सकती है। देशभर में फैसले के खिलाफ बृहस्पतिवार को दूसरे दिन भी प्रदर्शन जारी रहा जबकि प्रधानमंत्री इमरान खान इसे लेकर कट्टरपंथियों को चेतावनी दे चुके हैं। द न्यूज ने सूत्रों के हवाले से खबर दी है कि महिला का पति अशीक मसीह अपने परिवार के साथ पाकिस्तान पहुंच गया है। वह अपने साथ महिला को यूके ले जाएगा। वहीं तहरीक-ए-लबैक पाकिस्तान और दूसरे समूहों के नेतृत्व में लगातार विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं। इन लोगों ने देश के कई इलाकों में मुख्य राजमार्गों और रास्तों में जाम लगा दिया। यातायात अधिकारियों ने कहा कि कराची, लाहौर और इस्लामाबाद में बड़ी गड़बड़ी देखी गई है। यहां दर्जनों प्रदर्शनकारियों ने प्रमुख सड़कों की नाकाबंदी कर दी है। भीड़ की मौजूदगी के कारण प्रमुख मार्गों पर यातायात रुक गया। इन प्रदर्शनों से पंजाब प्रांत सबसे अधिक प्रभावित है। यहां स्कूलों को बंद कर दिया गया है और सेकेंडरी स्कूल सर्टिफिकेट की पूरक परीक्षाएं रोक दी गई हैं। इसके अलावा सिंध और खैबर पख्तूनवा में निजी स्कूल बंद हो गए हैं। अस्पतालों को हाई अलर्ट पर रखा गया है। पुलिस और अर्धसैनिक बल हालात पर काबू पाने का प्रयास कर रहे हैं। मालूम हो कि अपने पड़ोसियों के साथ विवाद के दौरान इस्लाम का अपमान करने के आरोप में 2010 में चार बच्चों की मां आसिया बीबी (47) को दोषी करार दिया गया था। 

whatsapp mail