महात्मा गांधी को नस्लवादी बता छात्रों ने विवि से हटाई प्रतिमा

img

घाना के सबसे प्रतिष्ठित विश्वविद्यालय में लगी राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की प्रतिमा को छात्रों के विरोध के बाद हटा दिया गया है। इस तरह की शिकायतें की गई थीं कि अश्वेत अफ्रीकी लोगों के खिलाफ गांधी नस्लवादी थे। भारत के पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने दोनों देशों के बीच के संबंधों के एक प्रतीक के रूप में दो वर्ष पहले अक्रा में घाना विश्वविद्यालय में वैश्विक शांति के दूत महात्मा गांधी की प्रतिमा का अनावरण किया था। व्याख्याताओं ने हालांकि गांधी के उस कथन का हवाला देते हुए उनकी प्रतिमा को हटाये जाने का आह्वान किया था जिसमें दावा किया गया है कि अश्वेत अफ्रीकी लोगों की तुलना में भारतीय ''श्रेष्ठÓÓ हैं। प्रतिमा हटाये जाने के लिए ऑनलाइन विरोध शुरू किया गया था। छात्रों और व्याख्याताओं ने बताया कि अक्रा में विश्वविद्यालय के लेगोन परिसर में लगी गांधी की प्रतिमा को मंगलवार और बुधवार की रात को हटा दिया गया। 
 

whatsapp mail