देश की इन जगहों पर नहीं जा सकते भारतीय 

img

इस बात से तो कई लोग वाकिफ होंगे कि विदेशों में कई ऐसी जगह हैं, जहां भारतीयों के घूमने पर प्रतिबंध लगा हुआ है पर क्या आप जानते हैं भारतीयों पर ऐसा ही एक प्रतिबंध उनके खुद के देश में भी लगा हुआ है। भारत में कई ऐसी खूबसूरत जगह हैं जहां भारतीयों के जाने पर मनाही है। अगर आप भी कहीं घूमने का प्लान बना रहे हैं तो एक बार जरूर चेक कर लें कहीं आपकी लिस्ट में भी भारत के इन शहरों का नाम तो नहीं। हिमाचल प्रदेश में कई ऐसी जगह हैं जहां की खूबसूरती लोगों को अपनी तरफ बेहद आकर्षित करती हैं। हिमाचल में बसा कसोल गांव टूरिस्टों की पहली पसंदीदा जगहों में से एक है। हालांकि आपको यह जानकर थोड़ी हैरानी हो सकती है कि यहां भारतीयों से  ज्यादा इजराइली लोग घूमते हुए दिखाई देते हैं। इसका मतलब यह है कि इस रेस्टोरेंट में किसी भी इंडियन टूरिस्ट को इंट्री नहीं मिलती है। ऐसा करने के पीछए यहां के कैफे मालिक का कहना है कि यहां आने वाले ज्यादातर भारतीय पर्यटक पुरुष होते हैं, जो कि यहां दूसरे पर्यटकों से दुव्र्यवहार करते हैं।
फॉर्नर्स ओन्ली बीच, गोवा 
गोवा पर्यटकों का सबसे पसंदीदा टूरिस्ट स्पॉट है। आप भी कई बार गर्मियों की छुट्टी बीताने के लिए गोवा गए होंगे। लेकिन क्या आप जानते हैं गोवा में कई ऐसे निजी बीच हैं, जहां भारतीयों के जाने की मनाही है। यहां सिर्फ विदेशी लोगों को ही इंट्री मिलती है। इसके पीछे यहां के बीच मालिकों का तर्क यह है कि ऐसा नियम उन्होंने बिकनी पहने विदेशी पर्यटकों को छेडख़ानी से बचाने के लिए बनाया है। मतलब साफ है- भारतीय यहां ना आए।
ब्रॉडलैंड लॉज, चेन्नई 
चेन्नई कहने को तो भारत का ही एक हिस्सा है लेकिन यहां कई ऐसे होटल मौजूद हैं जहां भारतीयों के आने पर प्रतिबंध लगा हुआ है। इसमें सबसे मुख्य है ब्रॉडलैंड लॉज। दरअसल,यह लॉज पुराने समय में राजा-महाराजा का महल हुआ करता था जो आज के समय में एक होटल बन गया है और नो इंडियन पॉलिसी पर चलता है। यहां सिर्फ विदेशियों को ही रहने के लिए कमरे दिए जाते हैं।
पुदुचेरी के फॉर्नर्स ओन्ली बीच 
गोवा की तरह पुद्दुचेरी में भी एक ऐसा बीच है जहां भारतीयों के लिए नो एंट्री है। यहां सिर्फ विदेशियों को ही आने की इजाजत मिलती है। इस बीच में भारतीयों की मनाही के पीछे भी गोवा की ही तरह तर्क दिया जाता है कि विदेशी पर्यटकों को छेडख़ानी से बचाने के लिए ऐसा किया जाता है।
यूनो-इन होटल, बेंगलुरु
साल 2012 में बेंगलुरु में स्थित यह होटल यूनो-इन खास तौर से जापानी लोगों के लिए बनाया गया था। लेकिन अपने एक नियम के चलते यह होटल जल्द ही विवादों से घिर गया। साल 2014 में यह तब चर्चा में आया था, जब होटल स्टॉफ ने भारतीय लोगों को रूफ टॉप रेस्तरां में जाने से रोक दिया। इस बात को लेकर यहां काफी विवाद भी हुआ। जिसके बाद साल 2014 में ग्रेटर बेंगलुरु सिटी कॉर्पोरेशन ने जातीय भेदभाव के आरोप में इस होटल को बंद करा दिया।

whatsapp mail