इतने किलो मीट खाकर बड़े-बड़े पहलवानों को धूल चटा देते थे दारा सिंह 

img

दारा सिंह का जन्म 19 नवम्बर 1928 को पंजाब में हुआ था। वह अपने जमाने के विश्व प्रसिद्ध फ्रीस्टाइल पहलवान रहे। रुस्तम-ए-हिन्द दारा सिंह का जन्मदिन है। रामानंद सागर की रामायण में भगवान हनुमान का किरदार निभाने वाले रुस्तम-ए-हिन्द दारा सिंह को पर्दे पर उनके अभिनय के लिए बल्कि अखाड़े में कई इतिहास रचने के लिए भी पहचाना जाता है। उन्होंने साल 1959 में पूर्व विश्व चैम्पियन जार्ज गारडियान्का को पराजित कर कामनवेल्थ की विश्व चैम्पियनशिप भी जीती थी। उन्होंने अपने समय में बड़े-बड़े पहलवानों को अखाड़े की धूल चटाई है। किसी भी इंसान को पूरा दिन तरोताजा और एनर्जी से भरा रहने के लिए सुबह किए हुए नाश्ते का बहुत बड़ा हाथ होता है। यही वजह है कि डॉक्टर भी लोगों को सुबह का नाश्ता मिस ना करने की सलाह अक्सर देते हैं। लेकिन दारा सिंह इसके ठीक विपरीत काम किया करते थे। बता दें, दारा सिंह पूरे दिन की इस सबसे जरूरी खुराक को हमेशा मिस करते रहे हैं। 83 साल की उम्र में भी दारा सिंह नाश्ता मिस करके सिर्फ लंच और डनर ही किया करते थे। खुद को फिट रखने के दारा सिंह रोजाना दस सिल्वर के वर्क के साथ 8 रोटी एक समय में खाते थे। इसके अलावा दारा सिंह रोजाना दो लीटर दूध और आधा किलो मीट भी खाते थे। जिम करने वाले कई लड़के अपनी बॉडी बनाने के लिए मार्केट में मिलने वाले प्रोटीन और स्टेरॉइड का इस्तेमाल करते हैं। लेकिन दारा सिंह की नार्मल डाइट से बनाई गई बॉडी ये साबित करती है कि एक अच्छी खुराक से भी आप अपनी अच्छी बॉडी बना सकते हैं। 

whatsapp mail