नहीं रहे गोवा के सीएम मनोहर पर्रीकर

img

लंबी बीमारी के बाद हुआ निधन

पणजी
गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रीकर का एक साल से गंभीर बीमारी से जूझने के बाद रविवार शाम को निधन हो गया। इससे पूर्व उनके कार्यालय ने उनकी हालत गंभीर होने की जानकारी दी थी। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने पर्रीकर के निधन पर गहरा दुख व्यक्त किया है। 63 वर्षीय पर्रीकर गंभीर पैंक्रिएटिक बीमारी से जूझ रहे थे। उन्होंने डोना पौला स्थित निजी निवास में अंतिम सांस ली। मुख्यमंत्री कार्यालय ने ट्वीट कर बताया कि डॉक्टरों ने उन्हें बचाने का भरसक प्रयास किया। उल्लेखनीय है कि पर्रीकर पिछले एक साल से बीमार चल रहे थे। पिछले दो दिनों में उनकी सेहत और बिगड़ती चली गई। सेहत बिगडऩे की सूचना मिलने के बाद उनके आवास पर उनके रिश्तेदारों, वरिष्ठ सरकारी अधिकारियों और राजनीतिक नेताओं का आने का सिलसिला शुरू हो गया। राज्य के पुलिस महानिदेशक प्रणब नंदा भी पहुंचे। सादगी, ईमानदारी और मुस्कुराहट भरी भाव भंगिमा मनोहर पर्रीकर की पहचान थी। पर्रीकर के निधन पर पीएम नरेंद्र मोदी भाजपा अध्यक्ष अमित शाह, गायिका लता मंगेशकर, पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी, केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी, निर्मला सीतारमण, मुख्तार अब्बास अंसारी, मनोज सिन्हा, दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, प्रियंका गांधी, पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज चौहान, सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव, शरद यादव, ज्योतिरादित्य सिंधिया ने भी ट्वीट कर श्रद्धांजलि अर्पित की। पीएम नरेंद्र मोदी ने श्रद्धांजलि देते हुए कहा कि मनोहर पर्रीकर जैसा नेता कोई नहीं है। एक सच्चे देशभक्त और असाधारण प्रशासक, वह सभी की प्रशंसा करते थे। राष्ट्र के प्रति उनकी त्रुटिहीन सेवा को पीढिय़ों द्वारा याद किया जाएगा। उनके निधन से गहरा दुख हुआ। उनके परिवार और समर्थकों के प्रति संवेदना। पर्रीकर आधुनिक गोवा के निर्माता थे। अपने मिलनसार व्यक्तित्व और सुलभ स्वभाव की बदौलत वे वर्षों तक राज्य के पसंदीदा नेता बने रहे। उनकी जन-समर्थक नीतियों ने गोवा को प्रगति की उल्लेखनीय ऊंचाइयों को सुनिश्चित किया। केंद्र सरकार ने मनोहर पर्रिकर के निधन सम्मान में सोमवार को राष्ट्रीय शोक मनाने का ऐलान किया है। राष्ट्रीय राजधानी और सभी राज्यों की राजधानियों और केंद्र शासित राज्यों में सोमवार को तिरंगा आधा झुका रहेगा। पर्रिकर का अंतिम संस्कार राजकीय सम्मान के साथ किया जाएगा.

whatsapp mail