अडानी पोट्र्स को केरल बाढ़ राहत के लिए सीएसआर एक्सीलेंस अवार्ड मिला

img

अहमदाबाद
केरल में बाढ़ की विभीषिका के बीच राहत और पुननिर्माण की दिशा में अडानी विझिन्जम पोर्ट प्राइवेट लिमिटेड द्वारा किये गये योगदान के लिए इसे प्रतिष्ठित इंडीवुड स्पेशल सीएसआर एक्सीलेंस अवार्ड - हॉल ऑफ फेम 2018 प्रदान किया गया है। अडानी गु्रप की सीएसआर, स्थायित्वपूर्ण और सामुदायिक संपर्क इकाई अडानी फाउंडेशन ने केरल राज्य में लोगों को बाढ़ से राहत पहुंचाने और फिर से जिन्दगी संवारने के भारी काम में सहयोग हेतु केरल के मुख्य मंत्री आपदा राहत कोष में 50 करोड़ रुपये का अंशदान किया था। अडानी विझिन्जम पोर्ट प्राइवेट लिमिटेड के एमडी और सीईओ, श्री राजेश झा तथा अडानी फाउंडेशन के यूनिट सीएसआर हेड, डॉ. अनिल बालाकृष्णन ने हैदराबाद में आयोजित सम्मान समारोह में पुरस्कार ग्रहण किया। राहत अभियान के विषय में अडानी फाउंडेशन की चेयरपर्सन, डॉ. प्रीति अडानी ने कहा कि, ‘‘मुझे खुशी है कि केरल की बाढ़ के समय किये गए हमारे कार्यों को पहचान मिली है। हमारे लोगों और स्वयंसेवकों ने हमारे देशवासियों की ज़रुरत के समय प्रेरणादायक प्रतिबद्धता का परिचय दिया। हमारी टीम और विशेष कर अडानी विझिन्जम पोर्ट प्राइवेट लिमिटेड के लोगों की नि:स्वार्थ सेवा राष्ट्र-निर्माण के प्रति हमारी दृढ़ता और वचनबद्धता का प्रमाण है। अडानी विझिन्जम पोर्ट प्राइवेट लिमिटेड ने अडानी फाउंडेशन के माध्यम से केरल में बाढ़ राहत और पुनर्निर्माण अभियान का बीड़ा उठाया। सामूहिक वचनबद्धता का परिचय देते हुए गु्रप के कर्मचारियों ने भी एक दिन का वेतन देकर केरल के विपदाग्रस्त लोगों के साथ एकजुटता का इजहार किया। अडानी फाउंडेशन ने इस सेवा में अपने मोबाइल हेल्थकेयर वैन का भी प्रयोग किया। बाढ़ का पानी घटने के साथ ही पूरे इलाके में स्वास्थय संबंधी गंभीर हालात उत्पन्न हो गए थे। महामारी की रोकथाम के लिए एक डॉक्टर, फार्मासिस्ट, सहायक कर्मियों और सामाजिक कार्यकर्ताओं के साथ मोबाइल हेल्थकेयर वैन द्वारा विभिन्न राहत शिविरों में स्वास्थ्य सेवा प्रदान की गयी। प्रभावित स्थानों पर टीम के लोगों ने लगातार काम किया। उन लोगों ने सबसे बुरी तरह प्रभावित क्षेत्रों में बचाव कार्य के समन्वय और बाढ़ राहत के कार्यों में भाग लिया। कर्मचारियों और स्वयंसेवकों से बनी टीम ने दूर-दराज के गावों में रात-रात भर घूम-घूम कर खाद्य सामग्री, कपडे और अन्य आवश्यक वस्तुओं के हज़ारों थैले बांटे। बाद में राहत शिविरों में भी यह अभियान चलाया गया। बाढ़ का पानी उतरने के बाद घरों, स्कूलों, अस्पतालों और यहाँ तक कि पूजास्थलों में भी व्यापक सफाई की ज़रुरत थी। अडानी फाउंडेशन ने ख़ास इस काम के लिए एक समर्पित टीम का गठन किया। अडानी गु्रप की सीएसआर, स्थायित्वपूर्ण और सामुदायिक संपर्क इकाई अडानी फाउंडेशन अगस्त 2018 में केरल में विनाशकारी बाढ़ के बाद के स्थिति में पुनर्निर्माण अभियान में भारत सरकार के बाद दूसरा सबसे बड़ा अंशदाता है।

whatsapp mail