अडानी विल्मर सुपोषण को मिला प्रतिष्ठित पब्लिक अफेयर्स एशिया (पीएए) गोल्र्ड स्टैंडर्ड अवार्ड 2018

img

अहमदाबाद
अडानी विल्मर के प्रोजेक्ट सुपोषण जिसे अडानी फाउंडेशन द्वारा क्रियान्वित किया गया है, को प्रतिष्ठित पब्लिक अफेयर्स एशिया (पीपीए) गोल्ड स्टैंडर्ड अवार्ड फॉर कॉर्पोरेट सिटिजनशिप (कम्यु्निटी रिलेशंस) दिया गया है। यह पुरस्कार हांग कांग में द फॉरेन कॉरेस्पॉन्डेट्स क्लब में 6 दिसंबर को आयोजित10 वें गोल्डन स्टैंडर्ड अवाड्र्स में दिया गया। डॉ. प्रीति अडानी, चेयरपर्सन, अडानी फाउंडेशन ने कहा, ‘हमें इस प्रतिष्ठित अवार्ड के साथ अपनी उपलब्धियों की सूची में एक और उपलब्धि जोडक़र गर्व महसूस हो रहा है। हम अपनी विभिन्न पहलों के माध्यम से जिंदगियों को बदलने की दिशा में अपने प्रयासों को जारी रखेंगे। अडानी फाउंडेशन का विश्वास लोगों को सशक्तबनाकर स्थायी बदलाव लाने में है। प्रोजेक्ट ‘सुपोषण- फॉर ए हेल्दी ग्रोईंग नेशन, एक बेहतर भारत विकसित करने की दिशा में हमारी प्रतिबद्धता का प्रमाण है। हम इस सम्मान और हमारी प्रतिबद्धता को पुष्ट करने के लिए पुरस्कार के आयोजनकर्ताओं को धन्यवाद देते हैं। अडानी फाउंडेशन ने कॉर्पोरेट सिटिजनशिप (कम्युनिटी रिलेशंस) कैटेगरी के लिए प्रोजेक्ट ‘सुपोषण- फॉर ए हेल्दी ग्रोईंग नेशन’ के लिए अपना नामांकन दाखिल किया था। प्रोजेक्ट सुपोषण को सरकारी योजनाओं की सहायता करने के लिए डिजाइन किया गया है। इसके द्वारा स्थानीय रूप से सशक्त कम्युुनिटी रिसोर्स का निर्माण किया जाता है जिसका उद्देश्य सरकार के साथ काम करना और इसकी योजनाओं को सुलभ (सुनिश्चित करना कि समुदाय में कोई भी छूट न जाये, स्वीकृत (समुदाय को योजना के लाभ समझाना) और अपेक्षित (समुदाय को योजना का लाभ लेने में सशक्त) बनाना है। नामांकन प्रपत्र दाखिल करने के बाद, प्रविष्टियों को सख्त मूल्यांकन प्रक्रिया से होकर गुजरना पड़ा और इन्हें रेटिंग दी गई। इन नामांकनों को तीन मानदंडों- अर्ली बर्ड, ज्यूंरी मूल्यांकन और पॉप्युलर वोट के आधार पर चुना गया। प्रोजेक्ट सुपोषण को अडानी विल्मर का सहयोग प्राप्त है और इसे अडानी फाडंडेशन ने क्रियान्वित किया है। सुपोषण ने 11 राज्यों  के 2 लाख से ज्यादा घरों तक पहुंच बनाई है। भारत के उन चुनिंदा क्षेत्रों में जहां लाइफ साइकल अप्रोच को अपनाया गया है, वहां कुपोषण और रक्तअल्पतता जैसे मुद्दों को सुलझाने के लिये सुपोषण एक कम्युनिटी आधारित पहल है। यह पहल मुख्य रूप से 0.5 साल की उम्र के बच्चों, किशोरियों, स्तनपान करा रही मांओं, गर्भवती महिलाओं और प्रजनन की उम्र वाली महिलाओं पर केंद्रित है। सुपोषण के जरिये, अडानी फाउंडेशन ने सफलतापूर्वक 1.48 मिलियन की आबादी तक पहुंच बनाई है. इसमें 0-5 साल के 62,000 बच्चे, 59,000 से ज्यादा किशोरियां और प्रजनन की उम्र वाली 138,000 से अधिक महिलायें शामिल हैं। 2018 में, 1060 गांवों, 5 वार्डों और 85 शहरी झुग्गियों तक इस प्रोजेक्ट के तहत पहुंच बनाई गई है।

whatsapp mail