दिग्विजय सिंह ने कहा- मंदसौर गोलीकांड में किसी को क्लीनचिट नहीं

img

भोपाल
कमलनाथ के मंत्रियों का मंदसौर गोलीकांड, नर्मदा किनारे पौधारोपण और सिंहस्थ में हुए घोटाले के मामले में शिवराज सरकार को क्लीन चिट देने पर मचा घमासान अभी थम नहीं रहा है। कांग्रेस के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने एक बार फिर तल्खी दिखाई है। उन्होंने कहा कि मंदसौर गोलीकांड पर किसी को क्लीन चिट नहीं दिया गया है। उन्होंने ये भी कहा कि कांग्रेस सरकार में भाजपा के नुमाइंदे बैठे हुए हैं। कुछ अधिकारी कर्मचारी खुद को बचाने के लिए मंत्रियों से ऐसा कहलवा रहे हैं। वहीं दिग्विजय सिंह की डांट के बाद अब जयवर्धन सिंह ने भी सफाई दी है। उन्होंने मीडिया से कहा कि अभी उनके विभाग में सिंहस्थ घोटाले का मामला आया नहीं है, जब आएगा तो उसकी निष्पक्षता से जांच की जाएगी। वहीं, वन मंत्री उमंग सिंघार के चिट्ठी लिखने के सवाल पर दिग्विजय सिंह जवाब देने से बचते रहे। 

मंत्री भ्रमित, विधायकों ने बनाया क्लब 
इधर, विधानसभा में पूर्व मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि अब कांग्रेस में अब विधायक क्लब बनाने लगे हैं। ऐसे में कभी भी खबर आ सकती है कि सरकार चला चली की बेला में है। सरकार और उनके मंत्री दिग्भ्रमित हैं कि उन्हें क्या करना है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में लॉ एंड ऑर्डर की स्थिति लॉ और ऑर्डर ले जाने वाली बची है। सतना जिले में दो बच्चों के अपहरण पता 10 दिन से ज्यादा समय हो गया, लेकिन हो पा रहा है। 

मामले की निष्पक्ष जांच कराएंगे 
दिग्विजय की नाराजगी के बाद बाला बच्चन ने मंगलवार को सफाई दी थी। अब नगरीय प्रशासन मंत्री जयवर्धन सिंह ने सफाई दी है। जयवर्धन सिंह ने कहा सिंहस्थ मामले की रिपोर्ट पिछली सरकार द्वारा विधानसभा में पेश की गई थी। ये रिपोर्ट अभी तक नगरीय प्रशासन विभाग तक नहीं पहुंची है। जब भी फाइल विभाग तक पहुंचेगी, तब इस मामले की निष्पक्ष जांच जरुर की जाएगी।

गले की फांस बना वचन पत्र 
पूर्व मंत्री और विधायक विश्वास सारंग ने कहा है कि वचनपत्र कांग्रेस के गले की फांस बन गया है। उन्हें खुद ही उम्मीद नहीं थी कि उनकी सरकार आएगी। इसलिए सरकार आने के बाद अब सरकार और उसके मंत्री समझ नहीं पा रहे हैं कि उन्हें क्या करना है। 

whatsapp mail