संगठन चुनाव पूरे होने तक अध्यक्ष बने रहेंगे अमित शाह

img

नई दिल्ली
भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने आज पार्टी की प्रदेश इकाइयों के प्रमुखों और महासचिवों की एक बैठक की अध्यक्षता भी की जिसमें पार्टी के संगठनात्मक चुनावों के कार्यक्रम को अंतिम रूप दिया गया। गृह मंत्री अमित शाह आगामी विधानसभा चुनावों और पार्टी के संगठन चुनाव पूरे होने तक भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष पद पर बने रहेंगे। हालांकि भाजपा का संविधान एक व्यक्ति एक पद के सिद्धांत की बात करता है लेकिन चूँकि इस वर्ष अक्टूबर-नवंबर तक महाराष्ट्र, जम्मू-कश्मीर, झारखंड और हरियाणा विधानसभा के चुनाव होने हैं इसलिए अमित शाह को अध्यक्ष पद पर बनाये रखने की पार्टी में आम सहमति है। अमित शाह ने आज पार्टी के राष्ट्रीय पदाधिकारियों, पार्टी की प्रदेश इकाइयों के प्रमुखों और महासचिवों की एक बैठक की अध्यक्षता भी की जिसमें पार्टी के संगठनात्मक चुनावों के कार्यक्रम को अंतिम रूप दिया गया। संगठनात्मक चुनाव की इस प्रक्रिया के तहत आगे चल कर पार्टी के नये अध्यक्ष का भी चुनाव होगा और माना जा रहा है कि अगले साल के शुरू में ही अब भाजपा को नया राष्ट्रीय अध्यक्ष मिलेगा। पार्टी को जो प्रचंड बहुमत मिला है वह मोदी सरकार की जनकल्याणकारी नीतियों और कार्यकर्ताओं की अथक मेहनत की जीत है वहीं यह भी कहा कि अभी पार्टी को अपना लक्ष्य पूरी तरह प्राप्त नहीं हुआ है। उन्होंने कहा कि जिन राज्यों में भाजपा का प्रदर्शन अच्छा नहीं रहा है वहां हमें अभी और मेहनत करके जनता का दिल जीतना है। उन्होंने साफ शब्दों में कहा है कि अभी हमें हमारी मंजिल पूरी तरह नहीं मिली है।तीन वर्ष पहले जब भाजपा का सदस्यता अभियान चला था तो अमित शाह के नेतृत्व में पार्टी ने 11 करोड़ लोगों को सदस्यता दिलाकर विश्व की सबसे बड़ी राजनीतिक पार्टी बनने का गौरव प्राप्त किया। अब अमित शाह के नेतृत्व में भाजपा ने अपनी सदस्य संख्या में 20 प्रतिशत वृद्धि करने का लक्ष्य लेकर राष्ट्रीय स्तर पर एक सदस्यता अभियान चलाने का फैसला किया है और इसके तहत पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में एक कमेटी का गठन किया है जोकि सदस्यता अभियान और संगठन के चुनाव कार्यक्रम का संचालन करेगी। कमेटी में शिवराज सिंह के सहयोग के लिए दुष्यंत गौतम, सुरेश पुजारी, अरुण चतुर्वेदी और श्रीमती शोभा सुरेंद्रन को शामिल किया गया है। भाजपा में राष्ट्रीय और प्रांतीय स्तर पर संगठनात्मक चुनाव पूरा होने में कई महीने का वक्त लग सकता है और तब तक शाह पार्टी के अध्यक्ष पद पर बने रहेंगे। भाजपा के कुछ प्रदेश अध्यक्षों के केंद्र में मंत्री बन जाने के चलते उन राज्यों में भी नया अध्यक्ष बनाया जाना संगठनात्मक चुनाव पूरे होने तक टल सकता है।

लापता एएन-32 विमान में सवार सभी 13 लोगों की मौत: अधिकारी
नयी दिल्ली। अरूणाचल प्रदेश के एक दूरस्थ इलाके में दुर्घटनाग्रस्त हुए एएन-32 विमान में सवार सभी 13 लोगों की मौत हो चुकी है। अधिकारियों ने यह जानकारी दी। भारतीय वायु सेना के अधिकारियों ने बताया कि बचावकर्मियों का एक दल बृहस्पतिवार की सुबह दुर्घटना स्थल पर पहुंचा। वायुसेना के एक अधिकारी ने बताया कि एएन-32 विमान दुर्घटना में कोई भी जीवित नहीं बचा। प्रवक्ता ने कहा, 'वायुसेना तीन जून 2019 को एएन-32 (विमान) के दुर्घटनाग्रस्त होने के दौरान अपनी जान गंवाने वाले वायुसेना के बहादुर जांबाजों को श्रद्धांजलि अर्पित करती है और वह मृतकों के परिजनों के साथ खड़ी है। उनकी (मृतकों की) आत्मा को शांति मिले।Ó दुर्घटना में अपनी जान गंवाने वालों में विंग कमांडर जी एम चार्ल्स, स्कवाड्रन लीडर एच विनोद, फ्लाइट लेफ्टिनेंट एल आर थापा, एम के गर्ग, आशीष तंवर और सुमित मोहंती, वारंट ऑफिसर के के मिश्रा, सार्जेंट अनूप कुमार, कॉरपोरल शेरीन, एलएसी (लीडिंग एयरक्राफ्ट मैन) एस के सिंह, एलएसी पंकज तथा गैर-लड़ाकू राजेश कुमार एवं पुताली शामिल हैं।

whatsapp mail