नोटबंदी में शामिल थे बीजेपी नेता, क्यों नहीं हुई जांच : सिब्बल

img

नई दिल्ली
कांग्रेस ने बुधवार को नोटबंदी को देश का 'सबसे बड़ा घोटाला' बताया। यहां एक प्रेस वार्ता को संबोधित करते हुए कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व मंत्री कपिल सिब्बल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर 'लूट' के 'सबूत' होने के बाद भी जांच के आदेश नहीं देने और 'निंद्रा में होने' का आरोप लगाया। सिब्बल ने कहा, नोटबंदी देश का सबसे बड़ा घोटाला है। प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कपिल सिब्बल ने एक बार फिर स्टिंग दिखाया जिसमें बड़े पैमाने पर पुराने नोट बदलते हुए दिखाए जा रहे हैं। उन्होंने दावा किया कि गुजरात में भाजपा कार्यालय से मिले निर्देश के आधार पर 31 दिसम्बर 2016 के बाद 500 और 1000 रुपये के पुराने नोट किस तरह अवैध रूप से बदले गए। इस काम में भाजपा नेताओं के साथ ही बैंक के रिटायर्ड अफसर और पुलिस अफसर शामिल थे। कांग्रेस की ओर से जारी बयान के अनुसार, जब ये सब हो रहा था तब चौकीदार क्यों सो रहे थे? जांच की गैर मौजूदगी दिखाती है कि जो भी इस लूट में शामिल हैं, उन्हें बचाया जा रहा है। जो भ्रष्टाचार में शामिल हैं, उन्हें साफ-सुथरा नहीं कहा जा सकता है। बयान में कहा गया है कि नौ अप्रैल को कांग्रेस के एक्सपोज में एक फील्ड असिस्टेंट राहुल एस. रथरेकर की कथित भूमिका के बारे में बताया गया था। वीडियो में दिख रहा है कि वह पहचान पत्र के जरिए अपनी पहचान साबित कर रहा है। उन्होंने कहा कि एक्सपोज में एक बैंकर की भूमिका के बारे में भी बताया गया है। सिब्बल ने कहा कि जिसके बाद कैबिनेट सचिवालय ने एक बयान जारी कर कहा कि राथरेकर एक कांस्टेबल-स्तर का कर्मचारी था और पुराने करेंसी नोट को बदलने के संदेह में उसे जून 2017 में ही हटा दिया गया था। पार्टी ने कहा कि यह बयान स्पष्ट रूप से दिखाता है कि मार्च 26 और 9 अप्रैल को हुए घोटाले को पार्टी द्वारा उजागर करना सही था और वीडियो से पता चलता है कि किस तरह से यह आदान-प्रदान हुआ था। सिब्बल ने कहा, "सरकारी अधिकारियों, बैंकरों और राज्य अधिकारियों की संलिप्तता राजकोष में हुई लूट को दर्शाती है, जैसा पहले कभी नहीं हुआ था। कौन इस लूट के लिए जिम्मेदार है? इसकी विस्तृत जांच कराने की जरूरत है। यह सरकार घोटाले के बारे में जानकारी के बावजूद जांच करवाने में असफल रही है। पूर्व मंत्री ने कहा, "यह दिखाता है कि आधिकारिक तंत्र इस बड़े घोटाले में खुद को समृद्ध करने में सक्रिय रूप से लगा हुआ था।" उन्होंने कहा कि 26 मार्च को गुजरात में पैसों की अदला-बदली को लेकर दिखाया गए एक वीडियो घोटाले और भाजपा के करीबियों के बीच संबंध साबित करता है। सिब्बल ने कहा, "यह शर्म का विषय है कि मामला उजागर होने के बाद भी सरकार ने कोई भी जांच नहीं कराई।"

whatsapp mail