भाजपा ने रॉबर्ट वाड्रा पर निशाना साधा

img

दिल्ली
चुनावी मुद्दे के रूप में राफेल कितना असरदार होता है यह तो बाद में पता चलेगा। लेकिन यह जरूर स्पष्ट हो गया है कि फिलहाल यह सबसे गर्म मुद्दा है। कांग्रेस अध्यक्ष जहां अनिल अंबानी ग्रुप के सहारे परोक्ष रूप से सरकार पर हमलावर हैं। वहीं भाजपा ने सबूतों के साथ गांधी परिवार को जिम्मेदार ठहराया है। भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा ने कहा कि संप्रग सरकार ने यह सौदा इसलिए रद्द कर दिया था क्योंकि वाड्रा के दोस्त की कंपनी को बिचौलिया नही बनाया गया था। संप्रग सरकार चाहती थी कि यह करार राबर्ट वाड्रा के जरिये हो, ताकि उन्हें इसका फायदा मिल सके। आज भी इसकी कोशिश जारी है। वाड्रा के खिलाफ पुख्ता सबूत हैं और उनका जेल जाना तय है। पात्रा ने आरोप लगाया है कि वाड्रा के दोस्त संजय भंडारी ने 2008 में एक लाख की पूंजी से ऑफसेट कंपनी बनाई और जो बाद में वाड्रा की मदद से हजारों करोड़ की कंपनी बनी। संबित ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी के आने के बाद 2014 में दलाली करने वाली कंपनी पर कार्रवाई हुई। 2016 में भंडारी के घर और दफ्तर पर छापे पड़े, जहां राफेल खरीद से संबधित गोपनीय दस्तावेज मिले। वाड्रा के अभिन्न मित्र संजय भंडारी के घर यह कागज कैसे पहुंचे इसका जवाब राहुल गांधी को देना चाहिए। पात्रा ने सबूत के तौर पर कई ईमेल भी दिखाये जिसमें लंदन में संजय भंडारी के रिश्तेदार सुमित चढ्डा द्वारा राबर्ट वाड्रा के लिए 19 करोड़ के घर की जानकारी है। संबित पात्रा ने दावा किया कि 2009 में ये घर खरीदा गया था। 

whatsapp mail