2019 में चुनाव जीतने पर बीजेपी देश में अवैध घुसपैठियों की पहचान की पहल करेगी : शाह

img

नई दिल्ली
बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने रविवार को कहा कि अगर उनकी पार्टी अगला लोकसभा चुनाव जीतती है, तब वह देश में अवैध घुसपैठियों की पहचान करने की पहल करेगी. उन्होंने साथ ही आरोप लगाया कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को सिर्फ वोट बैंक की राजनीति की चिंता हैं। पूर्वांचल के विकास के लिये अपनी सरकार की प्रतिबद्धता दोहराते हुए शाह ने कहा कि बीजेपी वोट बैंक की नहीं बल्कि विकास की राजनीति करती है जबकि विपक्षी महागठबंधन की एक मात्र नीति नरेंद्र मोदी हटाओ है। दिल्ली के रामलीला मैदान में पूर्वांचल महाकुंभ को संबोधित करते हुए शाह ने कहा कि अवैध घुसपैठिये राष्ट्रीय राजधानी में समस्या उत्पन्न कर रहे हैं। उन्होंने कहा, '' साल 2019 में सत्ता में आने के बाद बीजेपी राष्ट्रव्यापी स्तर पर देश में रहने वाले अवैध घुसपैठियों की पहचान करायेगी। शाह ने आरोप लगाया कि जब इनके खिलाफ कार्रवाई की जाती है तब राहुल गांधी और केजरीवाल शिकायत करते हैं. राष्ट्रीय नागरिक पंजी. के संदर्भ में शाह ने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और आम आदमी पार्टी को घुसपैठियों पर अपना रूख स्पष्ट करना चाहिए। उन्होंने जोर दिया, ''हम वोट बैंक की राजनीति नहीं करते। हम हमारे दल से देश को बहुत ऊंचा मानते है। आज देश भर में विकास की जो गंगा बह रही है, इसमें सबसे ज्यादा पसीना पूर्वांचली भाइयों ने बहाया है। विपक्ष के प्रस्तावित महागठबंधन पर निशाना साधते हुए भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि महागठबंधन की एक मात्र नीति ''नरेंद्र मोदी हटाओ" है। जबकि प्रधानमंत्री मोदी की नीति ''देश से गऱीबी हटाओ, भूख की समस्या दूर करना और असुरक्षा दूर करना" है। उन्होंने कहा कि पूर्वांचलियों का जो कुंभ उनके सामने है, वह इसके आधार पर राहुल गांधी और केजरीवाल साहब दोनों को कहना चाहते हैं कि आने वाले लोकसभा चुनाव में दिल्ली की सातों सीटें फिर से भाजपा जीतने वाली है। केजरीवाल पर निशाना साधते हुए शाह ने सवाल पूछा कि केजरीवाल ने इन चार वर्षों में दिल्ली के लोगों के लिए कितने काम किए हैं ? उन्होंने आरोप लगाया कि दिल्ली के मुख्यमंत्री का एक ही मंत्र है, ''झूठ बोलना और बार-बार झूठ बोलना. भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि उत्तरप्रदेश के पूर्वी हिस्से, बिहार और झारखण्ड के लिए कांग्रेस सरकार ने 13वें वित्त आयोग के अंतर्गत मात्र 4 लाख करोड़ रुपये दिए थे, लेकिन जबसे मोदी सरकार आई है तबसे पूर्वांचल के विकास के लिए 13.80 लाख करोड़ रूपया मुहैया कराया गया है.उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार ने पिछले साढ़े चार वर्षो में दिल्ली सरकार को 50,000 करोड़ रूपये दिये हैं. उन्होंने जोर दिया कि दिल्ली के लोगों में आप सरकार के खिलाफ नाराजगी है. उन्होंने कहा कि आज पूर्वांचलियों ने साबित कर दिया कि महाकुम्भ किसे कहते हैं. शाह ने अपनी राष्ट्रवादी रचनाओं से हर वर्ग में अद्भुत ऊर्जा का संचार करने वाले राष्ट्रकवि रामधारी सिंह 'दिनकर' के योगदान को भी याद किया.

whatsapp mail