370 का विरोध करने वाली कांग्रेस रास्ते से भटकी, मैं राष्ट्रवाद से समझौता नहीं करता : हुड्डा

img

नई दिल्ली
हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस नेता भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने रविवार को रोहतक में अपनी परिवर्तन रैली में जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने को लेकर मोदी सरकार की तारीफ की। इस दौरान वे अपनी पार्टी पर भी निशाना साधने से नहीं चूके। हुड्डा अनुच्छेद 370 के फैसले का विरोध करने पर कांग्रेस नेताओं से नाराज हैं। उन्होंने कहा कि कांग्रेस अपने रास्ते से भटक गई है। यह पुरानी कांग्रेस नहीं रही। भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने रैली में कहा, जब सरकार कोई अच्छा काम करती है तो मैं उसका समर्थन करता हूं। मेरे कई साथियों ने अनुच्छेद 370 हटाने का विरोध किया। हमारी पार्टी (कांग्रेस) रास्ते से भटक गई है। यह अब वो कांग्रेस नहीं है, जिसमें मैं रहा हूं। जब राष्ट्रवाद और आत्मसम्मान की बात आती है तो मैं किसी चीज से समझौता नहीं करता हूं। "मैं राष्ट्रवाद की भावना में रमे परिवार में जन्मा हूं। जम्मू-कश्मीर पर फैसलों का विरोध करने वालों से कहता हूं कि उसूलों पर जहां आंच आए, वहां टकराना जरूरी है, जो जिंदा है तो जिंदा दिखना जरूरी है।''
''अनुच्छेद 370 पर केंद्र सरकार के साथ हूं, लेकिन हरियाणा सरकार से कहना चाहता हूं कि अपने 5 साल के कामकाज का हिसाब दीजिए। इस दौरान आपने क्या किया? आप फैसले के पीछे नहीं छिप सकते हो। हरियाणा के हमारे भाई कश्मीर में तैनात हैं। इसीलिए केंद्र के फैसले के समर्थन में खड़ा हूं।''
''अगर राज्य में हमारी सरकार बनी तो आंध्र प्रदेश की तरह कानून बनाएंगे। ताकि 75त्न नौकरियां हरियाणा के लोगों को मिल सकें।''
नई पार्टी का ऐलान कर सकते हैं हुड्डा

ऐसी भी अटकलें हैं कि राज्य में विधानसभा चुनाव से पहले हुड्डा अपनी नई पार्टी का ऐलान कर सकते हैं। सूत्रों के अनुसार, हुड्डा की पार्टी का नाम स्वाभिमान कांग्रेस या स्वराज कांग्रेस हो सकता है। इन दोनों नामों पर विचार चल रहा है। हालांकि कहा यह भी जा रहा है कि हुड्डा पार्टी के प्रदेश नेतृत्व को लेकर भी काफी नाराज हैं और उसमें बदलाव चाहते हैं। अपनी सभी स्थितियों से हुड्डा पार्टी आलाकमान को अवगत करा चुके हैं।

आजाद ने हुड्डा को पार्टी में बने रहने को कहा
कांग्रेस के हुड्डा खेमे की कई दिन की राजनीतिक उठापटक के बीच रविवार को रोहतक के मेला ग्राउंड में परिवर्तन महारैली हुई। शनिवार को कांग्रेस के हरियाणा प्रभारी गुलाम नबी आजाद से हुड्डा की मुलाकात हुई। दिल्ली में हुई बैठक में आजाद ने हुड्डा को पार्टी में ही बने रहने और इन अटकलों पर विराम लगाने के लिए कहा था। सूत्र बताते हैं कि आजाद ने हुड्डा को दो बार सीएम बनाने का वक्त याद दिलाते हुए उन्हें आश्वासन दिया कि पार्टी में उनका कद कम नहीं है।

whatsapp mail