टैफे ने देशभर में लॉन्च किया मुफ्त ट्रैक्टर रेंटल प्लेटफॉर्म: जेफार्म सर्विसेज

img

नई दिल्ली
भारत के दूसरे सबसे बड़े ट्रैक्टर निर्माता टैफे (ट्रैक्टर्स एंड फार्म इक्विपमेंट लिमिटेड) ने अपनी सी.एस.आर.पहल कदमियों - जेफार्म सर्विसेज और श्जेफार्म सर्विसेज ऐपश् के राष्ट्रीय स्तर पर विस्तार की घोषणा की है। इस नयी पहलकदमी के साथ, टैफे भारतीय किसानों की आय को बढ़ावा देने के लिए टेक्नोलॉजी आधारित साझेदारी वाली अर्थव्यवस्था के लाभ प्रदान करता है। यह ऐपकिसानों को ट्रैक्टर और आधुनिक कृषि मशीनरी लेने के लिए मुफ्त सुविधा प्रदान करता है। अपने मौजूदा ट्रैक्टर और कृषि उपकरण किराए पर देने वाले किसानों मुफ्त जेफार्म सर्विसेज ऐप के शिकसान- से- किसान मॉडल  के माध्यम से इन उपकरणों को किराये पर लेने के इच्छुक किसानों से सीधे मुफ्त में जोड़ दिया जाता है। यह ऐप उनको किसान उद्यमियों से संपर्क करने, किराये की कीमतें तय करने और अपनी संबंधित आवश्यकताओं को पूरा करने में सक्षम बनाता है। हालांकि कृषि क्षेत्र में लगभग 65 प्रतिशत भारतीय काम कर रहे हैं, फिर भी भारत की कृषि उपज वैश्विक और उभरते बाजार औसत से पीछे है। 20 करोड़ से अधिक भारतीय किसानों के पास मशीनीकृत उपकरण बहुत कम हैं या उन तक उनकी कोई पहुंच नहीं है। उत्पादकता और कृषि आय में एक आदर्श परिवर्तन लाने के लिए किए गए किसी भी प्रयास को छोटे किसानों पर केंद्रित करना होगा, जो भारत की 86 प्रतिशत कृषि भूमि के लिए महत्वपूर्ण हैं। भारत भर में भूमि के छोटे खंड रखने वाले किसान अब अपनी उत्पादकता और आय में उल्लेखनीय वृद्धि के लिए अत्याधुनिक कृषि उपकरण किराए पर ले सकते हैं। जेफार्म सर्विसेज ऐप, और ट्रैक्टर और उपकरण मालिकों द्वारा संचालित होने वाले ऑन ग्राउंड कस्टम हायरिंग सेंटर किसानों को पारदर्शी तरीके से किफायती कृषि मशीनीकरण सेवाएं प्रदान करेंगे। जेफार्म सर्विसेजकी शुरुआत में ही मिली अपार सफलता के साथ, टैफे जेफार्म सर्विसेज प्लेटफॉर्म को चलाने के लिए विभिन्न राज्य सरकारों के साथ मिलकर कार्य कर रहा है। जेफार्म सर्विसेज के शुरुआती पायलट योजना में मध्य प्रदेश, राजस्थान, गुजरात और उत्तर प्रदेश हैं, जो लगभग 60,000 उपयोगकर्ताओं को सीधे लाभ पहुंचाता है और जिसके परिणामस्वरूप 100,000 से अधिक ऑर्डर हो चुके हैं, जिसमें किराए पर कृषि मशीनरी के उपयोग के लगभग 250,000 घंटे शामिल होते हैं। टैफे की चेयरमैन और सीईओ सुश्री मल्लिका निवासन ने बताया कि प्रदेश भर में कृषि उपकरण रेंटल प्लेटफॉर्म - जेफार्म सर्विसेज दृ सामाजिक पहलकदमी है। जो विश्व में खेती को बढ़ावा देने के प्रतिटैफे के दृष्टिकोण कल्टिवेटिंग द वल्र्ड और भारतीय किसानों के आर्थिक कल्याण के प्रति हमारी प्रतिबद्धता से जुड़ी है। जेफार्म सर्विसेज प्लेटफॉर्म कृषि मशीनीकरण से सम्बंधित समाधानों तक, किराये के लिए मुफ्त, पहुंच प्रदान करने के लिए प्रौद्योगिकी का अधिकतम उपयोग करता है और कृषि उत्पादकता और छोटे एवं सीमांत किसानों की आय बढ़ाने के साथ-साथ एक व्यावहारिक ग्रामीण उद्यमशीलता मॉडल बनाने का अवसर प्रदान करता है। इस लॉन्च के साथ हमारा उद्देश्य उन लाखों किसानों तक पहुंचना है जिनकी पहुंच कृषि मशीनीकरण और आधुनिक तकनीक तक नहीं है, साथ ही, 2022 तक कृषि आय को दोगुनी करने के प्रधान मंत्री के दृष्टिकोण को साकार करने में तेजी लाना है। टैफे के अध्यक्ष और सीओओ श्री टीआर केसवन ने कहा कि ष्टैफे काजेफार्म सर्विसेज एक पारदर्शी किसान-से-किसान प्लेटफॉर्म प्रदान करता है, जो किसी अदृश्य शुल्क या कमीशन से मुक्त है, जो सक्षम उद्यमियों को किसी भी ब्रांड के अपने मौजूदा ट्रैक्टर और उपकरणों को उन किसानों को किराए पर लेने में सक्षम बनाता हैजो अपनी कृषि आय को बढ़ाने के लिए आधुनिक विशेषताओं वाले उत्पाद किराए पर लेना चाहते हैं। जेफार्म सर्विसेज गरीबी रेखा से नीचे रहने वाले छोटे और सीमांत किसानों के बीच कृषि मशीनीकरण बढ़ाने के उद्देश्य से अनुकूलित समाधान प्रदान करने के लिए विभिन्न राज्य सरकारों के साथ मिल कर कार्य कर रहा है। किसान टोल फ्री हेल्पलाइन 1800-4-200-100 पर फोन करके, स्थानीय कस्टम हायरिंग सेंटर से संपर्क करके या जेफार्म सर्विसेज एंड्रॉइड ऐप के माध्यम से उपकरण किराए पर ले सकते हैं। इस ऐप का उपयोग कम लागत वाली एंड्रॉइड फोन पर किया जा सकता है और इसे बहुत कम डेटा पर चलाने के लिए बनाया किया गया है। जिन किसानों के पास स्मार्ट या फीचर फोन नहीं हैं, वे टोल-फ्री हेल्पलाइन का उपयोग कर सकते हैं। यह प्लेटफॉर्म समय-समय पर बिना किसी शुल्क के स्थानीय मौसम, बाजार, कृषि-समाचार और मंडी की कीमतों के बारे में अपडेट भी प्रदान करता है।

whatsapp mail