मैं अपनी जान देने को तैयार हूं लेकिन समझौता नहीं करुंगी : ममता बनर्जी

img

नई दिल्ली
चिटफंड घोटाला मामले में कोलकाता पुलिस प्रमुख से पूछताछ करने की सीबीआई की कोशिश के खिलाफ धरने पर बैठीं पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने सोमवार को कहा कि मैं अपनी जान देने को तैयार हूं लेकिन समझौता नहीं करूंगी। ममता कल से ही केंद्र सरकार के खिलाफ धरने पर बैठी हुईं हैं। आज इस मामले को संसद के दोनों सदनों में जमकर हंगामा हुआ। ममता ने आगे कहा कि जब लोग सड़कों पर टीएमसी के नेताओं और कार्यकर्ताओं को परेशान कर रहे थे। तब मैं सड़क पर नहीं आई। लेकिन इस बार जब कोलकाता पुलिस प्रमुख राजीव कुमार का अपमान हुआ तो हमें गुस्सा आया और हम इसके विरोध में धरने पर बैठे हैं। हम पुलिस प्रमुख राजीव कुमार का अपमान नहीं सहेंगे क्योंकि वह राज्य के प्रमुख अधिकारी हैं। और जब तक हम जिंदा हैं तब तक समझौता नहीं करेंगे। सीबीआई की एक टीम रविवार को मध्य कोलकाता में कुमार के लाउडन स्ट्रीट स्थित आवास पहुंची थी लेकिन वहां तैनात संतरियों एवं कर्मियों ने उन्हें अंदर जाने से रोक दिया और उन्हें जीप में भर कर थाने ले गए।बनर्जी ने धरना स्थल पर मौजूद पत्रकारों से कहा था कि, यह एक सत्याग्रह है और जब तक देश सुरक्षित नहीं हो जाता मैं इसे जारी रखूंगी। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री एम चंद्रबाबू नायडू, राजद के राष्ट्रीय अध्यक्ष लालू प्रसाद सहित कई नेताओं ने ममता बनर्जी का समर्थन किया है। यह पूछने पर कि क्या विपक्ष का कोई नेता उनसे मिलने शहर आएगा, बनर्जी ने कहा था, अगर कोई आना चाहता है तो हम उसका स्वागत करेंगे। यह लड़ाई मेरी पार्टी की नहीं है। यह मेरी सरकार के लिए है इस बीच, समाजवादी नेता किरणमय नंदा धरना स्थल पर पहुंचे और मामले पर बनर्जी के साथ अपनी पार्टी की एकजुटता व्यक्त की है। मंच के आसपास कुछ मार्गों पर अवरोधक लगाए गए। कई जिलों से पार्टी समर्थक यहां पहुंचे और बनर्जी के समर्थन में नारेबाजी भी की। अधिकारियों ने बताया कि हुगली, हावड़ा, बांकुरा, पूर्वी वर्द्धमान, पुरुलिया, बीरभूम और उत्तर 24 परगना जिले में सुबह लोग सड़कों पर भी उतरे। बनर्जी ने दावा किया था कि सीबीआई कुमार के दरवाजे पर बिना तलाशी वारंट के पहुंची थी। बनर्जी ने आगामी लोकसभा चुनाव में भाजपा विरोधी गठबंधन तैयार करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। उन्होंने आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह उस हर राज्य में राष्ट्रपति शासन लगाना चाहते हैं जहां विपक्ष सत्ता में है।

whatsapp mail