भारत 5 ट्रिलियन डॉलर की आर्थिक ताकत बनने की ओर है अग्रसर : मोदी

img

धोखाधड़ी से निपटने के लिए नवीन तौर तरीकों पर ध्यान दे कैग

नई दिल्ली
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (कैग) से सरकारी विभागों में धोखाधड़ी की जांच-पड़ताल के लिए नये तकनीकी तौर तरीके विकसित करने और देश को 5,000 अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था बनाने में अहम भूमिका निभाने को कहा। प्रधानमंत्री यहां नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षकों के एक सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि कैग को पेशे से जुड़ी धोखाधड़ी से निपटने के लिए नवीन तौर तरीकों पर ध्यान देना चाहिए। उन्होंने कहा कि लेखा परीक्षक प्रशासन संचालन और क्षमता में सुधार लाने में योगदान करने के लिए कहा है। मोदी ने कहा कि सरकार 2022 तक साक्ष्य समर्थित नीति बनाने की दिशा में बढऩा चाहती है और कैग इसमें थिंकटैंक बनकर और आंकड़ों के व्यापक विश्लेषण पर ध्यान देकर महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है। उन्होंने कहा कि भारत 5,000 अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था बनाने की ओर अग्रसर है और हमारा लक्ष्य है कि साल 2022 तक प्रमाण समर्थित नीति निर्माण को शासन का हिस्सा बनाया जाए। उन्होंने सरकारी विभागों में धोखाधड़ी को जड़ से समाप्त करने के लिए कैग से तकनीकी उपाय विकसित करने के लिए कहा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने संबोधन में कहा कि गांधी जी कहते थे कि जिस तरह व्यक्ति अपनी पीठ नहीं देख सकता उसी तरह व्यक्ति को अपनी त्रुटियों को देखना बड़ा मुश्किल होता है। आप सभी वो दिग्गज हैं जो आईना लेकर सरकारी व्यवस्थाओं के सामने खड़े हो जाते हैं और कमियों और गलतियों को बताते हैं। उन्होंने कहा कि सीएजी की जिम्मेदारी इसलिए भी अधिक है क्योंकि आप देश और समाज के आर्थिक आचरण को पवित्र रखने में अहम भूमिका निभाते हैं।और इसलिए आपसे उम्मीदें भी अधिक रहती हैं। 

ऑडिट में न लगे बहुत समय
कॉन्क्लेव में पीएम मोदी ने कहा कि आज सभी सटॉक होल्डर सटीक ऑडिट चाहते हैं, ताकि वे अपनी योजनाओं को ठीक से निष्पादित कर सकें, लेकिन वे यह भी नहीं चाहते हैं कि ऑडिट प्रक्रिया में बहुत समय लगे।

whatsapp mail