ममता बनर्जी ने धरना खत्म किया, बोलीं, हमने संविधान की रक्षा की

img

नई दिल्ली
केंद्र सरकार और सीबीआई के खिलाफ पश्चमि बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने अपना धरना खत्म कर दिया है। रविवार को रात 8 बजे से शुरू हुआ ममता का धरना मंगलवार शाम 6 बजे खत्म हुआ। इस मौके पर उनके साथ उनकी पार्टी के नेताओं के साथ साथ आंध्रप्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू भी मौजूद थे। ममता बनर्जी ने कहा, हमारा ये धरना संविधान की रक्षा के लिए था। ममता बनर्जी ने कहा, कोर्ट ने एक सकारात्मक जवाब दिया है। हम इस मुद्दे को अगले हफ्ते दिल्ली में उठाएंगे। ममता बनर्जी ने इस मौके पर पीएम मोदी और बीजेपी पर भी जमकर हमला बोला। उन्होंने कहा, केंद्र सरकार सभी एजेंसियों पर कब्जा करना चाहती है। यहां तक कि वह राज्य की एजेंसियों पर भी कब्जा करना चाहती है। ममता ने कहा, प्रधानमंत्री को दिल्ली से इस्तीफा दे देना चाहिए। उन्हें वापस गुजरात चले जाना चाहिए, क्योंकि दिल्ली में एक पार्टी और एक ही व्यक्ति का शासन है। सूत्रों के अनुसार, ममता दिल्ली में भी धरने पर बैठ सकती हैं। रविवार शाम को सीबीआई के अफसर कोलकाता पुलसि कमश्निर राजीव कुमार से पूछताछ करने गए थे। उसके बाद ही राजनीतिक ड्रामा बढ़ गया। ममता की पुलिस ने सीबीआई अफसरों को ही गिरफ्तार कर लिया। इसके बाद वह खुद धरने पर बैठ गईं। इसके बाद सीबीआई इस मामले में सुप्रीम कोर्ट पहुंच गई। सुप्रीम कोर्ट ने साफ कर दिया कि राजीव कुमार को सीबीआई के सामने पेश होना होगा। हालांकि उन्हें गिरफ्तार नहीं किया जाएगा। ममता बनर्जी ने इसे अपनी जीत बताया है तो बीजेपी का कहना है कि कोर्ट ने उन्हें आईना दिखा दिया है। शरद यादव और नायडू ने ममता से अनशन खत्म करने की अपील की थी
इससे पहले वरिष्ठ समाजवादी नेता शरद यादव ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से कोलकाता में सीबीआई की कार्रवाई के विरोध में जारी उनके आंदोलन को सुप्रीम कोर्ट के आदेश का हवाला देते हुये समाप्त करने की अपील की थी।

whatsapp mail