'मी टू' विदेश राज्यमंत्री अकबर ने दिया इस्तीफा, 20 महिलाओं ने लगाया था यौन शोषण का आरोप

img

नई दिल्ली
'मी टू' मुहिम के तहत बुरी तरह फंस चुके केंद्रीय विदेश राज्यमंत्री एमजे अकबर ने आखिरकार इस्तीफा दे दिया है। उन पर एक के बाद सिलसिलेवार तरीके से 20 महिलाओं ने यौन शोषण का आरोप लगाया था। साथ ही करीब दो दर्जन लोगों ने उनके खिलाफ बयान देने पर भी सहमति जताई थी। इस्तीफा देने के बाद अकबर ने अपना बयान जारी किया है। जिसमें उन्होंने कहा, मैंने व्यक्तिगत तौर पर अदालत में इंसाफ पाने का फैसला किया है। इसीलिए मुझे खुद पर लगे झूठे आरोपों के खिलाफ इस्तीफा देकर व्यक्तिगत क्षमता के हिसाब से मुकदमा लडऩा ठीक लगा। मैं देश सेवा का मौका देने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और विदेश मंत्री सुषमा स्वराज को धन्यवाद देता हूं।

आरोपों को बताया था बेबुनियाद
अकबर पर इस्तीफे को लेकर लंबे समय से दबाव था। इससे पहले अकबर सभी आरोपों को खारिज कर चुके हैं। उन्होंने कहा था, बिना सबूतों के आरोप लगाना एक वायरल बुखार की तरह हो गया है। मामला कुछ भी हो, अब मैं वापस आ गया हूं। मेरे वकील इस तरह के सभी बेबुनियाद आरोपों की पड़ताल करेंगे और तय करेंगे कि आगे क्या कानूनी कार्रवाई की जाए। गौरतलब है कि महिलाओं के साथ यौन दुर्व्यवहार के आरोपियों की सूची में अब तक लेखक, पत्रकार, अभिनेता, संगीतकार, गायक से लेकर केंद्रीय मंत्री तक के नाम शामिल हो गए हैं। इस फेहरिस्त में एमजे अकबर के अलावा दिग्गज अभिनेता नाना पाटेकर, आलोक नाथ, कैलास खेर, साजिद खान समेत कई दिग्गजों के नाम सामने आ चुके हैं। आरोप लगाने वाली महिलाओं में अभिनेत्रियां, निर्माताओं-निर्देशकों और पत्रकारों के भी नाम हैं।

whatsapp mail