पीएम मोदी 'आजाद हिंद' की वर्षगांठ पर हुए भावुक, लाल किले पर फहराया तिरंगा

img

नई दिल्ली
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सुभाष चंद्र बोस के नेतृत्व वाली 'आजाद हिंद सरकार' की 75वीं वर्षगांठ पर लाल किले में तिंरगा फहराया। ये मौका इसलिए भी खास है क्योंकि अब तक देश के प्रधानमंत्रियों द्वारा केवल 15 अगस्त को ही लाल किले पर झंडारोहण किया जाता रहा है। कार्यक्रम में सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए थे। इस मौके पर नेताजी सुभाष चंद्र बोस के परिवार के लोग भी शामिल हुए थे। कार्यक्रम की शुरुआत से पहले पीएम मोदी ने राष्ट्रीय पुलिस स्मारक का भी उद्घाटन किया। इस अवसर पर पीएम मोदी ने आजाद हिंद फौज सरकार गठित करने वाले नेता जी सुभाष चंद्र बोस के स्वतंत्रता संघर्ष में योगदान को याद किया और कहा कि एक परिवार को बड़ा बताने के लिए नेता जी, सरदार पटेल और डॉ.अंबेडकर जैसे महान नेताओं को भुला दिया गया। इस मौके पर पीएम मोदी ने नेताजी सुभाष चंद्र बोस को याद करते हुए कहा 'कैम्ब्रिज के दिनों को याद करते हुए सुभाष बाबू ने लिखा था कि हम भारतीयों को ये सिखाया जाता है कि यूरोप, ग्रेट ब्रिटेन का ही बड़ा स्वरूप है। इसलिए हमारी आदत यूरोप को इंग्लैंड के चश्मे से देखने की हो गई है।मोदी ने कहा 'आज मैं निश्चित तौर पर कह सकता हूं कि स्वतंत्र भारत के बाद के दशकों में अगर देश को सुभाष बाबू, सरदार पटेल जैसे व्यक्तित्वों का मार्गदर्शन मिला होता, भारत को देखने के लिए वो विदेशी चश्मा नहीं होता, तो स्थितियां बहुत भिन्न होती। ये भी दुखद है कि एक परिवार को बड़ा बताने के लिए, देश के अनेक सपूतों, वो चाहें सरदार पटेल हों, बाबा साहेब आंबेडकर हों, उन्हीं की तरह ही, नेताजी के योगदान को भी भुलाने का प्रयास किया गया।

whatsapp mail