हेमंत करकरे पर प्रज्ञा ठाकुर के बयान से बैकफुट पर पार्टी

img

नई दिल्ली
मुंबई हमले में शहीद हुए पुलिस अधिकारी हेमंत करकरे पर भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) नेत्री प्रज्ञा सिंह ठाकुर को विवादित बयान देना अब मंहगा पड़ता जा रहा है। पार्टी ने साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के बयान से किनारा काटते हुए साफ कहा है कि यह उनकी व्यक्तिगत राय है। भाजपा ने एक प्रेस विज्ञपति जारी करते हुए कहा कि साध्वी के बयान से पार्टी का कोई लेना-देना नहीं है। साध्वी के बयान से भाजपा का किनारा दिल्ली स्थित भाजपा मुख्यालय की ओर से जारी बयान में कहा गया है, भारतीय जनता पार्टी का स्पष्ट मानना है कि स्वर्गीय हेमंत करकरे आतंकवादियों से बहादुरी से लड़ते हुए वीरगति को प्राप्त हुए। भाजपा ने हमेशा उन्हें शहीद माना है। जहां तक साध्वी प्रज्ञा के इस संदर्भ में बयान का विषय है, वह उनका निजी बयान है। जो वर्षों तक उन्हें हुई शारीरिक और मानसिक प्रताडऩ के कारण दिया गया होगा। वहीं, साध्वी के बयान पर दूसरी राजनीतिक पार्टियों ने भी जमकर निशाना हमला बोला है। साथ ही आईपीएस एसोसिएशन ने भी इसकी कड़ी निंदा की है। इधर, चुनाव आयोग ने भी साध्वी प्रज्ञा के बयान पर मिली शिकायत का संज्ञान लिया और मामले की जांच का फैसला किया है गौरतलब है कि साध्वी प्रज्ञा ने कहा है कि मुंबई के आतंकवाद निरोधक दस्ते के पूर्व प्रमुख हेमंत करकरे ने उन्हें मालेगांव विस्फोट मामले में गलत तरह से फंसाया था और वह अपने कर्मों की वजह से मारे गए।
 आपको बता दें कि 26 नवंबर 2008 को पाकिस्तान से आए आतंकवादियों ने मुंबई के कई स्थानोंत हमले किए थे, जिसमें हेमंत करकरे और मुंबई के कुछ अन्य अधिकारी शहीह हो गए थे। अब इस बयान पर जमकर राजनीति शुरू हो गई है।

whatsapp mail