राजन ने गवर्नर पद के लिए आवेदन नहीं किया, कहा- मुझे वहां की राजनीतिक समझ नहीं

img

नई दिल्ली
आरबीआई के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन ने बैंक ऑफ इंग्लैंड के गवर्नर पद के लिए आवेदन नहीं दिया है। एक इंटरव्यू के दौरान राजन ने कहा कि बीते कुछ समय में इंग्लैंड की सेंट्रल बैंकिंग काफी हद तक राजनीति से जुड़ी है और उन्हें इसकी समझ नहीं है। राजन के इस बयान को ब्रिटेन के यूरोपियन यूनियन से अलग होने की प्रक्रिया 'ब्रेग्जिट' से जोड़कर देखा जा रहा है। बैंक ऑफ इंग्लैंड के मौजूदा गवर्नर मार्क कार्नी का कार्यकाल 31 जनवरी 2020 को पूरा होगा। ब्रेग्जिट की वजह से कार्नी को कई बार देश की मुद्रा नीतियों को नियमित करना पड़ा। हालांकि, इस पर भी संसद की तरफ से उनको काफी आलोचना का सामना करना पड़ा। ब्रिटिश न्यूज चैनल बीबीसी से बातचीत में राजन ने कहा, यह बेहतर होगा कि एक देश के पास ऐसा गवर्नर हो, जो वहां की राजनीतिक स्थितियां बेहतर समझे और सही राह ले सके। साफ है कि मैं एक बाहरी आदमी हूं और मुझे उस देश की राजनीति की भी उतनी समझ नहीं है। राजन 2003 से 2006 तक अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) के चीफ इकोनॉमिस्ट रह चुके हैं। 2013 में आरबीआई के गवर्नर बनने से पहले उन्होंने भारत सरकार के सलाहकार के तौर पर भी काम किया था। फिलहाल वे अमेरिका के शिकागो में स्थित बूथ स्कूल ऑफ बिजनेस में पढ़ा रहे हैं। 325 साल पुराना बैंक ऑफ इंग्लैंड यूके का केंद्रीय बैंक है। हाल ही में ब्लूमबर्ग न्यूज के एक सर्वे में उन्हें बैंक ऑफ इंग्लैंड के गवर्नर पद का दूसरा बड़ा दावेदार बताया गया है। उनसे आगे सिर्फ इंग्लैंड की फाइनेंशियल कंडक्ट अथॉरिटी के प्रमुख एंड्रयू बेली थे। 

whatsapp mail