देखता हूं आर्टिकल 370 हटाने के बाद आपका झंडा कौन उठाता है : अब्दुल्ला

img

नई दिल्ली
नेशनल कांफ्रेंस अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला ने बीजेपी के मैनिफेस्टो को लेकर तीखी प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने कहा कि संविधान के अनुच्छेद 370 को समाप्त करने से जम्मू कश्मीर की जनता के लिए आजादी का रास्ता साफ हो जाएगा। उन्होंने कहा कि भाजपा को दिलों को जोडऩे की कोशिश करनी चाहिए, ना कि उन्हें तोडऩे की। फारूक अब्दुल्ला का बयान ऐसे समय आया है जब भाजपा ने सोमवार को लोकसभा चुनावों के लिए अपना घोषणा पत्र जारी किया और अनुच्छेद 370 समाप्त करने की अपनी प्रतिबद्धता दोहराई। यह अनुच्छेद जम्मू कश्मीर को विशेष दर्जा प्रदान करता है। फारूक ने कहा, वे समझते हैं कि बाहर से लाएंगे, बसाएंगे हमारा नंबर कम कर देंगे। हम क्या सोते रहेंगे? हम इसका मुकाबला करेंगे। 370 को कैसे खत्म करोगे? अल्लाह की कसम खाकर कहता हूं, अल्लाह को यही मंजूर होगा कि हम इनसे आजाद हो जाएंगे। मैं भी देखता हूं फिर कि कौन इनका झंडा खड़ा करने के लिए तैयार होता है! भाजपा ने संविधान के अनुच्छेद 35ए को भी समाप्त करने का संकल्प लिया है, जो जम्मू कश्मीर के बाहर के लोगों को राज्य में संपत्ति खरीदने से रोकता है। श्रीनगर लोकसभा सीट से चुनाव लड़ रहे अब्दुल्ला ने एक चुनावी रैली में कहा, वे अनुच्छेद 370 समाप्त करने की बात करते हैं। अगर आप ऐसा करते हैं तो यह विलय भी नहीं रहेगा। अल्ला कसम, मुझे यह खुदा की इच्छा लगती है कि हमें उनसे आजादी मिलेगी। पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि अगर अनुच्छेद 370 समाप्त हो जाता है तो कश्मीर में कोई राष्ट्रीय झंडा फहराने वाला नहीं होगा। उन्होंने कहा, उन्हें करने दीजिए, हम देख लेंगे। मैं देखूंगा कि यहां उनका झंडा फहराने के लिए कौन तैयार है। इसलिए ऐसा मत कीजिए जिससे हमारे दिल टूटें। दिल जोडऩे की कोशिश कीजिए, तोडऩे के लिए नहीं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत भाजपा नेतृत्व पर निशाना साधते हुए अब्दुल्ला ने कहा, जब आप कोई चुनावी रैली करते हैं तो जम्मू कश्मीर के लिए प्यार के कुछ शब्द बोलिए। उन्होंने कहा, हां, हम मुस्लिम बहुसंख्यक राज्य हैं और इसमें कोई संदेह नहीं है। आप जितनी भी कोशिश कर लें, लेकिन इसे नहीं बदल सकते। आप सोचते हैं कि अनुच्छेद 35ए हटकार अपना अधिकार जमा लेंगे। क्या हम सोते रहेंगे? हम इसके खिलाफ लड़ेंगे।' नेशनल कान्फ्रेंस उपाध्यक्ष उमर अब्दुल्ला ने भी भाजपा के घोषणा पत्र का जिक्र करते हुए राज्यपाल सत्यपाल मलिक पर निशाना साधा। 

whatsapp mail