पहली बार फ्रांस के 3 राफेल लड़ाकू विमान पहुंचे ग्वालियर 

img

ग्वालियर
देश में इस समय राफेल लड़ाकू विमान सौदे को लेकर भाजपा और कांग्रेस हाय तौबा मचा रही है। ऐसे में राफेल लड़ाकू विमान का भारत में आना किसी चमत्कार से कम नहीं है। प्रदेश के ग्वालियर में पहली बार फ्रांस के तीन राफेल विमानों ने महाराजपुरा एयरबेस पर डेरा डाला है। विमान पहली बार भारत में आए हैं। विमानों के यहां पहुंचने के बाद उन्हें लेकर कई तरह की अटकलें लगाई जा रही हैं। वायुसेना सूत्रों का कहना है विमान आस्टे्रलिया की लंबी उड़ान के बाद यहां ट्रांजिट विजिट पर रुके हैं, सभंवत: सोमवार को महाराजपुरा एयरबेस से अपने ठिकाने के लिए उड़ान भरेंगे। जबकि विमानों के एयरबेस पर आने के बाद यह माना जा रहा है कि वायुसेना के पायलट इनमें ट्रेनिंग करेंगे।
यह तीनो ंराफेल ऑस्ट्रेलिया में अंतर्राष्ट्रीय युद्वाभ्यास में शामिल होने गए थे। इस अभ्यास में इंडियन एयरफोर्स ने भी हिस्सा लिया था। इसके बाद अब फ्रांस के साथ प्रैक्ट्रिस का Óवाइंट ऑपरेशन करेंगे। फ्रांस के पायलट एयरबेस से मिराज 2000 लड़ाकू विमानों को उडाएंगे जबकि वायुसेना के पायलट राफेल पर हाथ आजएमांगे। तीन राफेल की भारत में आमद के बाद उम्मीद है कि अगले साल तक करीब 36 राफेल विमान भारत की वायुसेना का हिस्सा होंगे। इन्हें एयरफोर्स की दो स्कवाड्रन में बांटा जाएगा। एक स्कवाड्रन को पाकिस्तान से सुरक्षा के लिए अंबाला में और दूसरा हाशिमारा, पश्चिमी बंगाल पर तैनात रहेगा। भाजपा की मोदी सरकार ने 36 विमानों का सौदा करीब 60 हजार करोड रु में किया था।  इसके लेकर कांगे्रस पिछले कुछ समय से सरकार पर ऊंगली उठा रही है।

whatsapp mail