जम्मू-कश्मीर से जैश का सफाया करके रहेंगे : ढिल्लन

img

श्रीनगर
कश्मीर घाटी में जैश के आतंकियों के खिलाफ सुरक्षाबलों का एनकाउंटर खत्म हो गया है इस ऑपरेशन में सुरक्षाबलों को बड़ी कामयाबी मिली है। सेना ने इस एनकाउंटर में जैश के कमांडर मुद्दसिर खान को ढेर कर दिया। आज सुबह सुरक्षाबलों ने दक्षिण कश्मीर के पुलवामा जिले के त्राल इलाके के पिंगलिश में घेराबंदी करके तलाशी अभियान शुरू किया था, उन्हें इलाके में आतंकवादियों की मौजूदगी की सूचना अपने खुफिया तंत्र से पता चली। जब सुरक्षाबल संदिग्ध इलाके में तलाशी अभियान के लिए निकले तब आतंकवादियों ने सुरक्षा बलों पर गोली चला दी जिसकी जवाबी कार्रवाई में सेना ने आतंकियों को ढेर कर दिया। इसके बाद सेना ने जम्मू पुलिस के साथ संयुक्त प्रेस कान्फ्रेंस कर कहा कि आतंकवादियों के खिलाफ सेना की कार्यवाही जारी रहेंगी। लेफ्टिनेंट जनरल केजेएस ढिल्लन ने इस प्रेस वार्ता में बताया कि जब तक सेना जैश का सफाया नहीं कर देगी तब तक ऐसे ऑपरेशंस जारी रहेंगे।
उन्होंने बताया कि पिछले 21 दिनों के दौरान सेना ने कश्मीर घाटी में 18 आतंकिवादियों को ढेर किया। मारे गए आतंकियों में से 8 आतंकी पाकिस्तान के थे। इस संयुक्त प्रेस कान्फ्रेंस में लेफ्टिनेंट जनरल केजेएस ढिल्लन के अलावा जम्मू -कश्मीर पुलिस के एसपी पाणी आईजी और ज़ुल्फि़कार हसन (आईजी,ऑपरेशन्स ) सीआरपीएफ भी शामिल थे। मारे गए आतंकियों में पुलवामा हमले का मास्टर माइंड मुदस्सरि खान भी शामिल था। त्राल में दूसरा आतंकी खालिद भी ढेर कर दिया गया। सेना ने साफ कर दिया है कि आतंक के खिलाफ उसकी ये कार्रवाई जारी रहेगी। सेना ने कहा है कि हम घाटी में जैश ए मोहम्मद को खत्म करने के करीब हैं। मारे गए 18 आतंकियों में से 8 पाकिस्तान के हैं। सेना के अनुसार, इस साल पाकिस्तान ने 400 से ज्यादा बार सीमा पार से फायरिंग की गई है। सेना के अनुसार, 2019 के पहले 70 दिनों में सफलतापूर्वक 44 आतंकियों का सफाया कर दिया। इनमें ज्यादातर जैश ए मोहम्मद के हैं। 2018 में पाकिस्तान की ओर से एलओसी पर 1629 सीजफायर की घटनाएं हुई हैं।

पाकस्तिानी कनेक्शन आया सामने
सेना और पुलिस की एक प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधति करते हुए लेफ्टिनेंट जनरल कंवलजीत सिंह ढिल्लों ने कहा, जैश-ए-मोहम्मद का आतंकवादी मुदसिर खान 14 फरवरी को हुए पुलवामा आतंकी हमले का मुख्य षड्यंत्रकारी था।कश्मीर के आईजी एस पी पाणि ने कहा कि मारे गये आतंकवादियों में से एक की पहचान 'कोड खालिद' के तौर पर की गई है, जो पाकिस्तानी माना जा रहा है। मुदसिर अहमद खान के मारे जाने से जैश-ए-मोहम्मद को जबर्दस्त झटका लगा है। 14 फरवरी को हुए पुलवामा आतंकी हमले में शामिल जैश-ए-मोहम्मद का आतंकवादी मुदसिर अहमद खान कश्मीर में मुठभेड़ में मारा गया। घाटी में जब तक जैश का सफाया नहीं कर देंगे तब तक ऐसे ऑपरेशंस जारी रहेंगे- सेना

whatsapp mail