गाजा तूफान में मरने वालों की संख्या 45, ढाई लाख अब भी राहत शिविरों में

img

चेन्नई
तमिलनाडु में तटीय जिलों में गाजा चक्रवात से जानमाल का भारी नुकसान हुआ। बारिश से जुड़ी घटनाओं में अब तक 45 लोग मारे जा चुके हैं। राज्य में 493 राहत शिविर बनाए गए हैं। इनमें करीब 2.5 लाख लोग रह रहे हैं। तूफान से सबसे ज्यादा प्रभावित नागपट्टनम, तंजावुर, तिरुवरूर, पुडुकोट्टाई, त्रिची, कुड्डालोर और तिरूवानामलाई हैं। मुख्यमंत्री ईके पलानीसामी ने कहा कि वे मंगलवार को प्रभावित इलाकों का दौरा करेंगे। मारे गए लोगों के परिवार को 10 लाख का मुआवजा दिया जाएगा। वहीं, गंभीर रूप से घायलों को 1 लाख रुपए और घायलों को 25 हजार रुपए की आर्थिक मदद की जाएगी। पलानीसामी ने बताया कि राज्य में पशुधन को भी काफी नुकसान पहुंचा। चक्रवात में बड़ी संख्या में पालतू जानवर मारे गए हैं। इनमें गाय, भैस और बकरियां शामिल हैं। सबसे ज्यादा नुकसान तंजावुर, तिरुवरूर, पुडुकोट्टाई, त्रिची, कुड्डालोर और तिरूवानामलाई में हुआ है। तेजी से चल रहा राहत कार्य 
मुख्यमंत्री के मुताबिक, रेस्क्यू टीमें लोगोंं को निकालने के लिए तेजी से काम कर रही हैं। अभी तक 2.5 लाख लोगों को सुरक्षित निकाल कर शिविरों तक पहुंचा दिया गया है। यहां उनके खाने पीने की पूरी व्यवस्था की गई है। गुरुवार को तमिलनाडु तट से टकराया था गाजा चक्रवाती तूफान गाजा गुरुवार देर रात तमिलनाडु के नागपट्टनम और वेदरन्नियम तट से टकराया था। इस दौरान तूफानी हवाओं की रफ्तार 120 किलोमीटर प्रति घंटा रही। गाजा के असर से कई जिलों में भारी बारिश हो रही है। शुक्रवार के बाद से इसका असर कम हुआ।

whatsapp mail