राहुल को सत्ता का शौक नहीं : प्रियंका गांधी

img

भदोही
अपने पुरखों की धरती प्रयागराज से स्टीमर के काफिला के साथ वाराणसी की गंगा यात्रा पर निकलीं प्रियंका गांधी वाड्रा ने सफर के दूसरे पड़ाव सिरसा घाट पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को समर्थन देने की अपील की। कांग्रेस महासचिव तथा पूर्वी उत्तर प्रदेश की प्रभारी प्रियंका गांधी ने सिरसा घाट पर अपनी क्रूज बोट को छोड़ा और गेस्ट हाउस में लोगों को संबोधित किया। यहां से वह लाक्षागृह और अब भदोही जिले के सीतामढ़ी पहुंच चुकी हैं। प्रयागराज से गंगा किनारे के पौराणिक स्थल सीतामढ़ी पहुंचीं प्रियंका गांधी ने मछुआरों और महिलाओं से संवाद किया। लोकतंत्र में जनता की शक्ति का भान करते हुए अपील किया कि देश और संविधान को बचाने के लिए सोच-समझ के वोट करें। प्रियंका ने कहा कि मैंने और मेरे भाई ने बहुत संघर्ष देखे हैं। पिता और परिवार का बलिदान देखा है। राहुल को सत्ता का शौक नहीं है, वह आप सभी की भलाई चाहते हैं। उन्होंने कहा कि मौजूदा सरकार ने पांच साल पहले खूब वादे किए और इतने साल की सत्ता के दौरान कोई वादा पूरा नहीं किया। किसानों की भलाई हुई न महिलाओं की भलाई हुई। युवाओं को रोजगार भी नहीं मिला। ये सरकार जनता को और उसकी आशाओं व अपेक्षाओं को नकारने वाली है। पीएम का नाम लिए बिना प्रियंका ने कहा कि शक्तिमान और 56 इंच के सीने वाले इतने महान नेता आप हैं तो सभी वादे पूरे क्यों नहीं किये। सच ये है कि आप दुर्बल हैं। सीतामढ़ी पहुंचने से पहले कोइरौना बाजार में प्रियंका जोरदार स्वागत किया गया। यहां उन्होंने ग्रामीण वंशनारायन और कृष्णानंद से बोलीं मेरे राहुल भइया के हाथों को मजबूत करिए दादा।

लोकसभा चुनाव 2019: बिहार में हीरो कौन-पीएम मोदी या सीएम नीतीश, जानिए
यह भी पढ़ें                                                                                                                                                                    इससे पहले प्रियंका गांधी ने इलाहाबाद विश्वविद्यालय की कुछ छात्राओं के साथ एक तस्वीट ट्वीट की, जिसमें उन्होंने लिखा कि आज सुबह इलाहाबाद विश्वविद्यालय की इन बुद्धिमान, गतिशील और युवा छात्राओं के साथ इस यात्रा को साझा करना मुझे बहुत अच्छा लगा। मैं आज कई प्रतिभाशाली छात्रों से मिली, वे एक ऐसे भविष्य के लायक हैं जिसमें उनकी आशाओं और सपनों को साकार किया जा सके।

whatsapp mail