श्रीलंका से महिलाओं को बुलाकर सबरीमाला में पिछले दरवाजे से प्रवेश कराया गया : भागवत

img

प्रयागराज
राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के सर संघचालक मोहन भागवत गुरुवार को विश्व हिंदू परिषद की धर्मसंसद में हिस्सा लेने प्रयागराज स्थित कुंभ पहुंचे थे। यहां उन्होंने सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश के आदेश को लेकर कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुनाने से पहले करोड़ो हिंदुओं के सम्मान का ख्याल नहीं रखा। उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद भी वहां महिलाएं प्रवेश के लिए तैयार नहीं थीं। इसलिए श्रीलंका से महिलाओं को बुलाकर मंदिर के पीछे दरवाजे से प्रवेश कराया गया। भागवत ने कहा कि देश में हिंदू धर्म को ठेस पहुंचाने की साजिश चल रही है। भारत तेरे टुकड़े होंगे, इंशा अल्लाह बोलने वाले साथ मिलने लगे हैं। ऐसे लोग राजनीतिक फायदे के लिए समाज को तोड़कर वोट पाने की कोशिश में लगे हैं। 

whatsapp mail