आचार्य लोकेश का कोलकाता में भव्य स्वागत

img

कोलकाता
अन्तरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त प्रख्यात जैनाचार्य एवं अहिंसा विश्व भारती के संस्थापक आचार्य डॉ लोकेश मुनिजी को दिल्ली सरकार द्वारा 'चैम्पियन आफ कम्यूनल हारमनी' अवार्ड से सम्मानित होने के बाद पहली कोलकाता पहुंचने पर होटल वेस्टिन में Indian Pluralism Foundation व विभिन्न धर्मों की ओर से सम्मानित किया गया।उल्लेखनीय है कि भारत सरकार ने भी इससे पूर्व उन्हें राष्ट्रीय साम्प्रदायिक सद्भाव पुरस्कार से सम्मानित किया था। आचार्य लोकेश कोलकता में 'मानवता, शक्ति और अध्यात्म' विषय पर आयोजित अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन को संबोधित करने के लिए पहुँचे थे। फाउण्डेशन के अध्यक्ष ने कहा कि शांतिदूत आचार्य लोकेश मुनि जहाँ देश विदेश मे जाकर समाज में शांति, धार्मिक व सांप्रदायिक सद्भावना और चरित्र निर्माण के कार्यों में निरंतर प्रयत्नशील है वही उनके द्वारा स्थापित संस्था अहिंसा विश्व भारती पूरे भारत में उल्लेखनीय काम कर रही है। उनके  इन्ही राष्ट्र व समाज उत्थान के उल्लेखनीय कार्यों के लिए हम सभी सम्मानित कर रहे है। आचार्य डॉ. लोकेश ने कहा कि अनेकता में एकता भारतीय संस्कृति की मौलिक विशेषता उस बहुलता वादी संस्कृति के संरक्षण व संवर्धन का हम सबका दायित्व है उन्होंने कहा पर्यावरण प्रदूषण से वैचारिक प्रदूषण अधिक ख़तरनाक है धर्म हमें जोडऩा सीखाता है तोडऩा नहीं। धर्म के क्षेत्र में हिंसा घृणा व नफऱत का कोई स्थान नहीं हो सकता उन्होंने कहा हम अपने धर्म का ईमानदारी से पालन करें किन्तु दूसरे धर्मों का भी आदर करें यही हमारी संस्कृति हैं उन्होंने कोलकता में हार्दिक सम्मान के प्रत्युत्तर में कहा कि अब समाज और राष्ट्र के लिए हमारा दायित्व अधिक बढ़ गया है, हमे और अधिक उत्साह के साथ विश्व शांति, धार्मिक सद्भाव और सभी वर्गों के उत्थान के लिए कार्य करना होगा। 7 उन्होने कहा कि अल्पसंख्यक समाज का समाज व राष्ट्र निर्माण मे महत्वपूर्ण योगदान है।

whatsapp mail