100 से ज्यादा मौत के बाद जागी बिहार सरकार, मरहम लगाने पहुंचे नीतीश कुमार

img

पटना
मुजफ्फरपुर में फैले एक्यूट इंसेफेलाइटिस सिंड्रोम यानि चमकी नामक मौत के बुखार से पीडि़त ज्यादातर मरीज श्रीकृष्णा मेडिकल कॉलेज एंड अस्पताल (एसकेएमसीएच) और केजरीवाल अस्पताल में भर्ती हैं। मुजफ्फरपुर में पिछले पंद्रह दिनों में 105 से भी ज्यादा बच्चों की मौत हो गई है। इस पूरी बीमारी को लेकर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार भी संजीदा हो गए हैं। पहले तो कल शाम पटना में सीएम ने पूरी बीमारी को लेकर एक बड़ी बैठक बुलाई औऱ उसके बाद खुद मुजफ्फरपुर आकर असप्ताल का दौर किया। नीतीश कुमार मुजफ्फरपुर के श्रीकृष्ण मेडिकल कॉलेज एंड अस्पताल (एसकेएमसीएच) पहुंचे जहां सबसे ज्यादा मासूमों की मौत हुई है। 
मुजफ्फरपुर में फैले एक्यूट इंसेफेलाइटिस सिंड्रोम यानि चमकी नामक मौत के बुखार से पीडि़त ज्यादातर मरीज श्रीकृष्णा मेडिकल कॉलेज एंड अस्पताल (एसकेएमसीएच) और केजरीवाल अस्पताल में भर्ती हैं। इससे पहले केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन और बिहार के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडे के खिलाफ बीमारी से पहले एक्शन नहीं लेने के आरोप में केस दर्ज हुआ है। बच्चों की मौत पर मानवाधिकार आयोग ने केंद्र और राज्य सरकार को नोटिस भेजा है। बिहार सरकार ने चमकी से प्रभावित बच्चों को निशुल्क एंबुलेंस मुहैया कराने व पूरे इलाज का खर्च उठाने जैसी घोषणाएं करने के साथ ही इस बीमारी से मरने वालों के परिजनों को 4 लाख रुपये मुआवजा देने का ऐलान भी किया है।

whatsapp mail